1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. इस राज्य की विधान सभा में नमाज पढ़ने के लिए अलग से दिया गया कमरा, बीजेपी ने की मंदिर की मांग

इस राज्य की विधान सभा में नमाज पढ़ने के लिए अलग से दिया गया कमरा, बीजेपी ने की मंदिर की मांग

झारखंड विधानसभा में नमाज पढ़ने के लिए अलग से कमरे दिये जाने वाले आदेश पर लगातार विवाद बढ़ता जा रहा है। इसे लेकर अब बीजेपी ने राज्य सरकार से विधानसभा में मंदिर की मांग की है। गौरतलब है कि शुक्रवार को विधान सभा सचिवालय ने आदेश जारी कर कमरा नंबर 348 को नमाज के लिए आवंटित कर दिया है।

By Amit ranjan 
Updated Date

नई दिल्ली : झारखंड विधानसभा में नमाज पढ़ने के लिए अलग से कमरे दिये जाने वाले आदेश पर लगातार विवाद बढ़ता जा रहा है। इसे लेकर अब बीजेपी ने राज्य सरकार से विधानसभा में मंदिर की मांग की है। गौरतलब है कि शुक्रवार को विधान सभा सचिवालय ने आदेश जारी कर कमरा नंबर 348 को नमाज के लिए आवंटित कर दिया है।

बीजेपी ने फैसले पर उठाए सवाल

अब बीजेपी (BJP) ने इस आदेश पर सवाल उठाते हुए मांग की है कि बहुसंख्यक विधायकों की भावना का ख्याल रखते हुए विधान सभा में मंदिर का निर्माण हो। हालांकि झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM) जो कि इस वक्त झारखंड में सरकार चला रही है उसका कहना है कि ये व्यवस्था पुरानी है। उन्होंने कहा कि झारखंड (Jharkhand) के पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास ये सब वोट बैंक की राजनीति है। तुष्टिकरण के लिए ये सब हो रहा है। लोकतंत्र के मंदिर पर सरकार ने धब्बा लगाया है।

बीजेपी विधायक ने की ये मांग

वहीं बीजेपी विधायक ने कहा कि विधान सभा में इबादत के लिए व्यवस्था विधान सभा की तरफ से की गई है। इबादत करने का सबका अधिकार है मुझे लगता है कि ऐसा पहली बार हो रहा है कि इबादत करने के लिए विधान सभा के अंदर ऐसी व्यवस्था की गई है। मैं तो कहूंगा सर्वधर्म समभाव होना चाहिए। इसमें कहीं कोई आपत्ति भी नहीं होगी। साथ ही साथ विधान सभा के अंदर मंदिर का निर्माण हो जाना चाहिए ताकि बहुसंख्यक विधायक उस मंदिर में जाकर पूजा अर्चना कर सकें।

उन्होंने आगे कहा कि तब ये पता चलेगा कि वर्तमान सरकार सभी धर्मों के साथ समान व्यवहार करती है। वरना इसे सिर्फ और सिर्फ तुष्टीकरण की राजनीति मानी जाएगी। हम किसी की इबादत का विरोध नहीं करते। भारतीय जनता पार्टी सभी धर्मों का सम्मान करती है।

जेएमएम प्रवक्ता ने लगाए बीजेपी पर आरोप

वहीं इस पर जेएमएम के प्रवक्ता मनोज पांडे ने कहा कि इस तरह की बातें ये उठाते हैं। इनको पता होना चाहिए ये कोई नई व्यवस्था नहीं है। पुरानी विधान सभा में भी एक अलग कक्ष था जहां नमाज अदा की जाती थी। बिहार विधान सभा में भी ऐसी व्यवस्था लागू है। लेकिन इस तरीके की बातें करके धार्मिक उन्माद फैलाना बीजेपी का मुख्य एजेंडा है।

मनोज पांडे ने कहा कि ये बढ़ती कीमतों पर, महंगाई पर बात नहीं करेंगे। विधान सभा का निर्माण तो बीजेपी की पिछली सरकार में हुआ। उस समय इन लोगों ने उसका प्रावधान नहीं किया जो सवाल आज उठा रहे हैं, ये उस समय विधायक थे। इनको तो लोक सभा में भी बात उठानी चाहिए क्योंकि लोक सभा में भी एक कक्ष आवंटित है नमाज पढ़ने के लिए। पीएम मोदी से लोक सभा में मंदिर की मांग करें। ये हिंदू बनने का ढोंग करते हैं। इनका एजेंडा बस धार्मिक उन्माद फैलाओ और राज करो।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...