Home देश राहुल गांधी ने कहा- कृषि क़ानून किसानों के लिए मौत की सज़ा हैं

राहुल गांधी ने कहा- कृषि क़ानून किसानों के लिए मौत की सज़ा हैं

16 second read
0
8

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि कृषि क़ानून किसानों के लिए “मौत की सज़ा” हैं, जिनकी आवाज़ संसद के अंदर और बाहर कुचल दी गई है।

उन्होंने ट्विटर पर लिखा, “कृषि क़ानून हमारे किसानों के लिए मौत की सज़ा हैं। उनकी आवाज़ संसद के अंदर और बाहर कुचल दी गई है। ये इस बात का प्रमाण है कि भारत में लोकतंत्र मर चुका है।”

राहुल गांधी ने अपने इस ट्वीट के साथ एक न्यूज़ रिपोर्ट साझा की है, जिसमें दावा किया गया है कि मत विभाजन की मांग करने वाले विपक्षी सदस्य राज्य सभा में किसान बिल पारित होने के वक़्त अपनी सीटों पर थे, जबकि सरकार का कहना है कि वो नहीं थे।

राहुल गांधी और उनकी कांग्रेस पार्टी मांग कर रही है कि कृषि क़ानूनों को वापस लिया जाए क्योंकि ये किसानों के हित में नहीं हैं और इन क़ानूनों की वजह से किसान निजी कारोबारियों और बड़े बिज़नेस घरानों के चक्कर में फंस जाएंगे।

इस मौके पर प्रियंका गांधी ने ट्वीट करके कहा कि शहीद भगत सिंह ने कहा था कि शोषणकारी व्यवस्था पूंजीपतियों के फायदे के लिए किसानों मजदूरों का हक छीनती है।
भाजपा सरकार अपने खरबपति मित्रों के लिए किसानों की MSP का हक छीनकर उन्हें बंधुआ खेती में धकेल रही है। किसान विरोधी बिलों के खिलाफ संघर्ष ही #भगत_सिंह को सच्ची श्रद्धांजलि है।

कांग्रेस पार्टी देश भर में कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ विरोध प्रदर्शन कर रही है।

 

Load More In देश
Comments are closed.