Home योग और स्वास्थ्य हार्ट की बीमार से बचा सकता है सरसो का तेल : पढ़िए इस तेल की खूबियां

हार्ट की बीमार से बचा सकता है सरसो का तेल : पढ़िए इस तेल की खूबियां

0 second read
0
2
People who are sick with mustard oil are less sick, read

सदियों से इस देश में सरसों के तेल में भोजन बनता हुआ आ रहा है। मानव समाज हमेशा खाने के लिए सरसों के तेल का इस्तेमाल करता आया है।

आम तौर पर ऐसा देखा जाता है कि जिन घरों में सरसों के तेल में खाना बनता है उस घर में लोग कम बीमार होते है। इसका कारण है सरसों के तेल के गुण जो आदमी को बीमार होने ही नहीं देते।

बैक्टीरिया, फंगस और वायरल के कारण हमारे शरीर में दुनिया भर की बीमारी हो जाती है लेकिंन सरसों के तेल में इतनी ताकत है कि इन सबका हमारे शरीर पर कोई असर नहीं होता है।

गला और श्वसनतंत्र सबसे सुरक्षित अगर किसी तेल से रहता है तो वोहै सरसों का तेल, अगर कोई कीटाणु या विषाणु शरीर में प्रवेश कर भी जाए तो अधिक समय तक टिक नहीं पायेगा।

सरसों के तेल से ना सिर्फ इम्यून सिस्टम इम्प्रूव होता है बल्कि शरीर की पाचन क्रिया को भी यह अच्छा रखता है। सरसों का तेल ऐंटिफंगल, ऐंटिबैक्टीरियल और ऐंटिइंफ्लामेट्री गुणों से भरपूर होता है।

सरसों तेल की सबसे बड़ी खासियत यह है कि ये आर्ट्रीज़ को ब्लॉक नहीं करता है। यह तेल हमारे गट बैक्टीरिया को लाभ पहुंचाता है और पाचनतंत्र की मरम्मत का करने का काम करता है।

डालडा, घी या रिफाइंड्स हमारे शरीर में अतिरिक्त वसा के रूप में इकट्ठा होते जाते है जो आर्ट्रीज़ को ब्लॉक कर सकते हैं वहीं दूसरी और सरसों तेल ऐसी समस्याओं को शरीर में उत्पन्न ही नहीं होने देता है।

जो लोग सरसों तेल में बना खाना खाते हैं, उन्हें कफ, कोल्ड, सीने में दर्द जैसी समस्या या तो होती नहीं है या होती है तो बहुत कम होती है। जिन लोगों को कब्ज की समस्या रहती है या अक्सर पेट गड़बड़ रहता है, उन्हें सरसों तेल में ही बना हुआ भोजन खाना चाहिए।

Load More In योग और स्वास्थ्य
Comments are closed.