Home कृषि मंत्र किसानों को मोदी सरकार की सौगात, रबी फसलों के एमएसपी में इजाफा

किसानों को मोदी सरकार की सौगात, रबी फसलों के एमएसपी में इजाफा

50 second read
0
10
Modi government's gift to farmers, increase in MSP of Rabi crops

रबी फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य को केंद्र सरकार की कैबिनेट कमेटी ने आज मंजूरी दे दी है। कैबिनेट की आर्थिक मामलों की समिति ने यह मंजूरी दी है। किसानों की चिंता को देखते हुए एक महीने पहले ही न्यूनतम समर्थन मूल्य मंजूरी दे दी गई है।

लोकसभा में कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर किसानों से जुड़े मुद्दों पर बोलेंगे। किसानों से जुड़े बिलों का किसान विरोध कर रहे हैं। उन्हें आशंका है कि न्यूनतम समर्थन मूल्य खत्म हो सकता है।इस आशंका को दूर करने के लिए सरकार ने एक महीने पहले ही इसकी मंजूरी दे दी है।

मनीष तिवारी ने कहा कि किसान आज आंदोलन कर रहे हैं। उनकी आशंका है कि इन विधेयकों के पारित होने के बाद क्या सरकारी एजेंसियां पहले की तरह खरीद करती रहेंगी? कांग्रेस नेता ने कहा कि किसान परेशान हैं।

ऐसे में सरकार की तरफ से आश्वासन दिया जाए कि सरकारी एजेंसियां खासकर एफसीआई किसानों से उनके उत्पादों को पहले की तरह से खरीदती रहेंगी।यह भी आश्वासन दिया जाए कि न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीद जारी रहेगी।

लोकसभा में कांग्रेस के सदस्य मनीष तिवारी ने सोमवार को कहा कि संसद में पारित हुए कृषि संबंधी दो विधेयकों के कारण देश के किसानों में न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीद को लेकर आशंकाएं उत्पन्न हो गई हैं।

जिन्हें सरकार को दूर करना चाहिए।निचले सदन में शून्यकाल के दौरान इस मुद्दे को उठाते हुए तिवारी ने कहा कि अक्तूबर के आखिरी हफ्ते में धान की खरीद शुरू हो जाती है और किसानों के लिए यह महत्वपूर्ण होती है।लेकिन संसद में पारित हुए कृषि संबंधी दो विधेयकों और लोकसभा में पारित आवश्यक वस्तु से संबंधित विधेयक के कारण किसानों में एमएसपी पर खरीद को लेकर आशंकाएं उत्पन्न हो गई हैं।

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर  ने रबी फसलों के एमएसपी में बढ़ोतरी के सरकार के फैसले का ऐलान किया।तोमर ने कहा कि किसानों को लागत मूल्य पर 106 प्रतिशत तक लाभ मिलेगा। जबकि न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीद आगे भी जारी रहेगी।

चना —
समर्थन मूल्य  –   5100 रुपये प्रति क्विंटल
वृद्धि             –   4.6 प्रतिशत यानी 225 रुपये प्रति क्विंटल
मुनाफा         –   78 प्रतिशत

जौ–
समर्थन मूल्य    –   1600 रुपये प्रति क्विंटल
वृद्धि दर          –   4.9 प्रतिशत यानी 75 रुपये प्रति क्विंटल
मुनाफा           –   65 प्रतिशत

मसूर–
समर्थन मूल्य    –   5100 रुपये प्रति क्विंटल
वृद्धि दर          –   6.3 प्रतिशत यानी 300 रुपये प्रति क्विंटल
मुनाफा           –   78 प्रतिशत

सरसों एवं रेपसीड–
समर्थन मूल्य    –   4650 रुपये प्रति क्विंटल
वृद्धि दर          –   5.1 प्रतिशत यानी 225 रुपये प्रति क्विंटल
मुनाफा            –   93 प्रतिशत

कुसुम्भ–
समर्थन मूल्य    –   5327 रुपये प्रति क्विंटल
वृद्धि दर          –   2.1 प्रतिशत यानी 112 रुपये प्रति क्विंटल
मुनाफा            –   50 प्रतिशत

गेहूं–
समर्थन मूल्य    –   1975 रुपये प्रति क्विंटल
वृद्धि दर          –   2.6 प्रतिशत यानी 50 रुपये प्रति क्विंटल
मुनाफा            –   106 प्रतिशत

धान–
समर्थन मूल्य    –   1868 रुपये प्रति क्विंटल

Load More In कृषि मंत्र
Comments are closed.