Home योग और स्वास्थ्य स्वामी रामदेव से जाने टाइफायड का घरेलु उपचार, पढ़िए

स्वामी रामदेव से जाने टाइफायड का घरेलु उपचार, पढ़िए

0 second read
0
6
Know the domestic treatment of typhoid from Swami Ramdev, read

बैक्टीरिया साल्मोनेला टायफी से यह बुखार होता है और इसे मोतीझारा भी कहा जाता है।  टायफायड बैक्टीरिया व्यक्ति के रक्त और धमनियों में आ जाता है।

टाइफायड बुखार अधिकतर दूषित खाने व दूषित पानी से होता है, उनके शरीर में बहुत कमजोरी भी महसूस होती है।

टायफायड बुखार आमतौर पर 1 महीने तक होता है, लेकिन अधिक कमजोरी होने पर अधिक समय तक भी रह सकता है। इतना ही नहीं इससे शरीर में बहुत कमजोरी आ जाती है।

स्वामी रामदेव कहते है कि इससे लीवर को नुकसान होता है। भूख लगनी कम हो जाती है और बुखार लगातार बना रहता है। ये आंत्र ज्वर है, इससे लीवर को नुकसान होता है।

इसमें गिलोय घनवटी फायदा करती है , इसे दिन में 3 बार ले। सुदर्शन घनवटी भी लेनी चाहिए। ज्वरनाशक क्वाथ को रोज़ पीना चाहिये।

चार से पांच मुनक्का और आठ से दस अंजीर, एक से दो गर्म खूबकला पीस ले और दिन में दो तीन बार खाये। मुनक्का के बीज निकाल दे।

खाने में परहेज करे, दूध पीये, चीकू खाये, सेव खाये और मुंग की दाल का पानी पीये। गर्म पानी पीये। अधिक पानी पीने से शरीर का जहर पेशाब और पसीने के रूप में शरीर से बाहर निकल जाता है।

Load More In योग और स्वास्थ्य
Comments are closed.