1. हिन्दी समाचार
  2. एजुकेशन
  3. … तो इस तरह से तय होंगे CBSE और ICSE के 12वीं बोर्ड परीक्षा का परिणाम, जानिए क्या है प्रक्रिया और कब आएगी रिजल्ट

… तो इस तरह से तय होंगे CBSE और ICSE के 12वीं बोर्ड परीक्षा का परिणाम, जानिए क्या है प्रक्रिया और कब आएगी रिजल्ट

By Amit ranjan 
Updated Date

नई दिल्ली : लंबे समय से CBSE और ICSE के परीक्षा परिणाम का इंतजार कर रहे विद्यार्थियों के लिए बड़ी राहत की खबर है। दरअसल CBSE और ICSE बोर्ड की 12वीं की मार्कशीट तैयार करने को लेकर बनी 13 सदस्यीय समिति ने गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में अपनी रिपोर्ट सौंप दी है। सीबीएसई ने बताया कि 10वीं, 11वीं और 12वीं के प्री बोर्ड के रिजल्ट को 12वीं के फाइनल रिजल्ट का आधार बनाया जाएगा और रिजल्ट 31 जुलाई तक घोषित कर दिए जाएंगे।

सीबीएसई ने कहा कि 10वीं के 5 विषय में से 3 विषय के सबसे अच्छे मार्क को लिया जाएगा, इसी तरह 11वीं के पांचों विषय का एवरेज लिया जाएगा और 12वीं के प्री-बोर्ड एग्जाम और प्रेक्टिकल का नंबर लिया जाएगा। 10वीं के नंबर का 30 परसेंट, 11वीं के नंबर का 30 परसेंट और 12वीं के नंबर के 40 परसेंट के आधार पर नतीजे आएंगे।

सीबीएसई ने कहा कि परिणाम समिति ने परीक्षा की विश्वसनीयता के आधार पर वेटेज पर फैसला किया, स्कूलों की नीति प्रीबोर्ड में ज्यादा अंक देने की है, ऐसे में सीबीएसई के हजारों स्कूलों में से प्रत्येक के लिए परिणाम समिति गठित होगी, स्कूल के दो वरिष्ठतम शिक्षक और पड़ोसी स्कूल के शिक्षक “मॉडरेशन कमेटी” के रूप में कार्य करेंगे ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि स्कूल ने अंकों को बढ़ा-चढ़ाकर नहीं बताया है, यह कमेटी छात्रों के पिछले तीन वर्षों के प्रदर्शन को आंकेगी।

वहीं केंद्र सरकार की ओर से सुप्रीम कोर्ट को बताया गया कि 31 जुलाई तक CBSE 12वीं के रिजल्ट घोषित कर दिए जाएंगे, जो बच्चे परिणाम से संतुष्ट नहीं होंगे उन्हें दोबारा परीक्षा देने का मौका दिया जाएगा, इसके लिए गाइडलाइन बनाई जा रही है। केंद्र ने कहा कि सीबीएसई ने पहली बार इस अभूतपूर्व संकट का सामना किया है।

ऐसे बनेगी ICSE 12वीं की मार्कशीट

सीबीएसई की ही तरह आईसीएसई ने भी 12वीं के रिजल्ट को जारी करने की नीति सुप्रीम कोर्ट को बताई है। 10वीं के नंबर (प्रोजेक्ट और प्रेक्टिकल को लेकर) और फिर 11वीं और 12वीं के प्रोजेक्ट और प्रेक्टिकल में मिले नंबर को आधार बनाकर 12वीं की मार्कशीट बनाई जाएगी। पिछले साल भी आईसीएसई ने इसी नीति से 12वीं के परिणाम घोषित किए थे।

सुप्रीम कोर्ट में आईसीएसई ने कहा कि पिछले साल के नतीजे पर सिर्फ 10 छात्रों ने आपत्ति जताई थी, जिन्होंने बाद में इम्प्रूवमेंट पेपर दिया था। आईसीएसई ने कहा कि हम 30 जुलाई तक 12वीं के नतीजे घोषित कर देंगे। वहीं, केंद्र सरकार ने कहा कि 14.5 लाख स्टूडेंट का रिजल्ट घोषित करना है, हम जल्दबाजी नहीं कर सकते हैं।

SC ने स्वीकारी मूल्यांकन नीति

सुप्रीम कोर्ट ने CBSE और ICSE की प्रस्तावित मूल्यांकन नीति को स्वीकार कर लिया है। अब दोनों बोर्ड अपनी-अपनी नीति पर काम कर सकते हैं, 12वीं की कोई परीक्षा नहीं होगी लेकिन उन छात्रों के लिए सुधार परीक्षा आयोजित की जा सकती है जो अंक सुधारना चाहते हैं, 31 जुलाई तक नतीजे आने की संभावना है। साथ ही बोर्ड की ओर से शिकायत समाधान समिति का भी गठन किया जाएगा।

अभी भी असमंजस में चार राज्य

सुप्रीम कोर्ट अब राज्य बोर्ड परीक्षाओं के मुद्दे पर विचार कर रहा है। याचिकाकर्ता का कहना है कि 28 में से 24 राज्यों ने पहले ही बोर्ड परीक्षा रद्द कर दी है, कुछ राज्यों द्वारा कोई निर्णय नहीं लिया गया, केरल पहले ही कक्षा 12 की परीक्षा आयोजित कर चुका है। वहीं चार राज्यों में असम, पंजाब, त्रिपुरा और आंध्र प्रदेश ने अभी तक कोई फैसला नहीं लिया है।

सरकार ने बनाई थी 13 सदस्यीय समिति

बता दें कि गत 4 जून को सीबीएसई ने असेसमेंट पॉलिसी तय करने के लिए 13 सदस्यीय एक समिति का गठन किया था। समिति को रिपोर्ट तैयार करने के लिए दस दिन का समय दिया गया था।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
RNI News Ads