1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. संसद के मॉनसून सत्र खत्म होने के बाद विपक्ष का पैदल मार्च, राहुल बोले- ‘हमें बोलने नहीं दिया गया, ये लोकतंत्र की हत्या

संसद के मॉनसून सत्र खत्म होने के बाद विपक्ष का पैदल मार्च, राहुल बोले- ‘हमें बोलने नहीं दिया गया, ये लोकतंत्र की हत्या

संसद के मॉनसून सत्र खत्म होने के विपक्षी पार्टियों द्वारा पैदल मार्च निकाला गया। इस मार्च में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी भी शामिल हुए। इस दौरान राहुल गांधी ने सरकार पर कई आरोप लगाये। राहुल गांधी ने कहा कि विपक्ष को संसद में बोलने की अनुमति नहीं है। हमने सरकार से पेगासस मुद्दे पर चर्चा करने की बात कही, हमने किसानों, महंगाई का मुद्दा उठाया। राहुल ने कहा कि ये लोकतंत्र की हत्या है।

By Amit ranjan 
Updated Date

नई दिल्ली : संसद के मॉनसून सत्र खत्म होने के विपक्षी पार्टियों द्वारा पैदल मार्च निकाला गया। इस मार्च में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी भी शामिल हुए। इस दौरान राहुल गांधी ने सरकार पर कई आरोप लगाये। राहुल गांधी ने कहा कि विपक्ष को संसद में बोलने की अनुमति नहीं है। हमने सरकार से पेगासस मुद्दे पर चर्चा करने की बात कही, हमने किसानों, महंगाई का मुद्दा उठाया। राहुल ने कहा कि ये लोकतंत्र की हत्या है।

राहुल गांधी ने कहा कि, ‘’सरकार ने किसानों के मुद्दे पर चर्चा नहीं करवाई, जासूसी कांड पर भी चर्चा नहीं करवाई।  सरकार विपक्ष की आवाज दबा रही है। देश की 60 प्रतिशत जनता की आवाज नहीं सुनी गई। जनता की आवाज का अपमान हुआ है। हम किसानों के मुद्दे संसद के अंदर नहीं उठा सके, इसलिए बाहर आए हैं। यह लोकतंत्र की हत्या से कम नहीं है।’’

इस दौरान राहुल गांधी ने सरकार पर गंभीर आरोप लगाया और सदन में सांसदों के साथ बदसलूकी होने की बात कही। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा कि पहली बार राज्यसभा (Rajyasabha) में सांसदों की पिटाई की गई, बाहर से लोगों को बुलाया गया और सांसदों के साथ धक्का-मुक्की की गई। चेयरमैन की जिम्मेदारी सदन को चलाने की है, विपक्ष की बात सदन में क्यों नहीं रख सकते हैं।

 

राहुल गांधी ने कहा कि देश का प्रधानमंत्री (Prime Minister) आज देश को बेचने का काम कर रहा है, दो-तीन उद्योगपतियों को देश की आत्मा बेची जा रही है। विपक्ष संसद के अंदर कोई भी बात नहीं कर सकता है। बता दें कि इससे पहले आज राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे के कार्यालय में विपक्षी दलों के नेताओं ने बैठक की थी।

‘मुझे लगा मैं पाकिस्तान बॉर्डर पर खड़ा हूं’

वहीं, मार्च में शामिल शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा कि, ”मार्शल्स की ड्रेस में बाहर से प्राइवेट लोगों ने कल जो महिला सदस्यों के साथ किया, उससे लगा जैसे मार्शल लॉ लगा हो. मुझे लगा मैं पाकिस्तान बॉर्डर पर खड़ा हूं।” कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने कहा कि सरकार इस देश को तानाशाही से चला रही है। ये देश की तासीर के खिलाफ है। विपक्ष को बोलने नहीं दिया जा रहा।

राज्यसभा में हुए हंगामे को लेकर विपक्ष का प्रदर्शन

बताया जा रहा है कि 15 पार्टियों के नेता और संसद से विजय चौक तक पैदल मार्च कर रहे हैं। पैदल मार्च करने के बाद विपक्ष के नेता राज्यसभा के सभापति वेंकैया नायडू से भी मिलेंगे। कल जनरल इंश्योरेंस बिल को लेकर राज्यसभा में ज़बरदस्त हंगामा हुआ था। विपक्ष ने सरकार पर मार्शलों के ज़रिए बदतमीजी का आरोप लगाया तो सरकार ने विपक्षी सांसदों पर मार्शल से मारपीट का आरोप लगाया।

पूरे देश को बदनाम कर रहा है विपक्ष

वहीं विपक्ष के प्रदर्शन को लेकर केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नक़वी ने कहा कि, ”कांग्रेस पार्टी और कुछ विपक्ष के लोग तो शुरू से ही कह रहे थे कि हम संसद के सत्र को वाशआउट करने के लिए वाशिंग मशीन लेकर आए हैं। आप सिर्फ संसद को ही बदनाम नहीं कर रहे हैं, बल्कि पूरे देश को बदनाम करने की षड़यंत्र और साजिशें कर रहे हैं।”

आज जंतर मंतर पर दिल्ली कांग्रेस और दलित कांग्रेस का प्रदर्शन

आपको बता दें कि कांग्रेस का दलित उत्पीड़न के खिलाफ आज हल्ला बोल है। दिल्ली कांग्रेस और दलित कांग्रेस दलितों पर अत्याचार के खिलाफ जंतर मंतर पर प्रदर्शन करेगी। इस प्रदर्शन में राहुल गांधी समेत कई अन्य बड़े नेता भी शामिल होंगे।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...