1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तराखंड
  3. Uttarakhand: ऊर्जा विभाग की समीक्षा बैठक में CM धामी हुए सख्त, कहा- बिजली बिलों में गड़बड़ी पकड़ी जाने पर अधिकारियों की होगी जवाबदेही

Uttarakhand: ऊर्जा विभाग की समीक्षा बैठक में CM धामी हुए सख्त, कहा- बिजली बिलों में गड़बड़ी पकड़ी जाने पर अधिकारियों की होगी जवाबदेही

सीएम धामी ने सचिवालय में मंगलवार को ऊर्जा विभाग की समीक्षा बैठक की। इस दौरान सीएम ने बिजली बिलों में गड़बड़ी को गंभीरता से लिया है। सीएम धामी ने निर्देश दिए हैं कि इन गड़बड़ियों को दूर करने के लिए प्रदेशभर में 15 से 30 सितंबर के बीच शिविर लगाए जाएं।

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

रिपोर्ट: सत्यम दुबे

देहरादून: सीएम धामी ने सचिवालय में मंगलवार को ऊर्जा विभाग की समीक्षा बैठक की। इस दौरान सीएम ने बिजली बिलों में गड़बड़ी को गंभीरता से लिया है। सीएम धामी ने निर्देश दिए हैं कि इन गड़बड़ियों को दूर करने के लिए प्रदेशभर में 15 से 30 सितंबर के बीच शिविर लगाए जाएं।

इसके साथ ही सीएम धामी ने उर्जा निगमों में कार्यों की गुणवत्ता एवं सुधारों के प्रति ध्यान देने के साथ ही योजनाओं के क्रियान्वयन में तेजी लाने के लिए सामूहिक जिम्मेदारी के साथ काम करने के निर्देश दिए। साथ ही कहा कि कार्यों की धीमी प्रगति के लिए अधिकारियों की जिम्मेदारी भी निर्धारित कर इसे परफारमेंस इंडिकेशन से जोड़ा जाए।

सीएम धानी ने निर्देश दिए कि उर्जा निगमों के कार्यकलापों में तेजी लाने और गुणात्मक सुधार के लिए टेक्निकल परफॉर्मेंस की व्यवस्था की जाए। उन्होंने ऊर्जा निगमों के स्तर पर संचालित परियोजनाओं एवं योजनाओं में टेक्निकल परफारमेंस ऑडिट की व्यवस्था सुनिश्चित करने, संचालित विद्युत परियोजनाओं का पर्यवेक्षण के साथ एसओपी तैयार करने, पुरानी विद्युत परियोजनाओं के रखरखाव और मरम्मत पर हुए व्यय तथा इससे उपलब्ध विद्युत क्षमता विकास का विवरण तैयार करने के भी निर्देश दिए।

इसके साथ ही सीएम धामी ने शहरों के विस्तारीकरण के साथ पावर स्टेशनों की स्थापना के लिए भूमि की उपलब्धता का मास्टर प्लान तैयार करने को कहा। उन्होंने लाइन लॉस के लिए अधिकारियों की जिम्मेदारी तय करने के निर्देश दिए। इसके साथ ही सीएम धामी ने टेंडर प्रक्रिया को पारदर्शी बनाने, विद्युत स्टेशनों की स्थापना, विद्युत लाइनों से संबंधित वन भूमि हस्तांतरण के प्रकरणों के निपटारे में तेजी लाने के निर्देश दिए। साथ ही उन्होने अधिकारियों को निर्देश दिया कि प्रदेश में उद्योगों को बिजली कटौती का सामना न करना पड़े, इसकी प्रभावी व्यवस्था की जाए।

सीएं धामी ने कहा कि केंद्र सरकार के स्तर पर लंबित योजनाओं का विवरण तैयार करने के साथ ही लखवाड़ व्यासी जमरानी आदि परियोजनाओं के क्रियान्वयन में भी तेजी लाने को कहा। जरूरत पड़ने पर इसके लिए केंद्रीय ऊर्जा एवं सिंचाई मंत्रियों से भी वार्ता करने को कहा। इस मौके पर मुख्य सचिव डॉ.एसएस संधू, अपर मुख्य सचिव आनंद वर्धन, अपर सचिव इकबाल अहमद, प्रबंध निदेशक दीपक रावत व अधिकारी मौजूद रहे।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...