1. हिन्दी समाचार
  2. योग और स्वास्थ्य
  3. मानसून में इम्युनिटी बढ़ाने के लिए,बड़ा ही पावरफुल है हल्‍दी-तुलसी का ये काढा

मानसून में इम्युनिटी बढ़ाने के लिए,बड़ा ही पावरफुल है हल्‍दी-तुलसी का ये काढा

मौसमी बीमारियों से लड़ने के लिए सबसे प्रभावी है हल्‍दी-तुलसी का ये काढा। यह पेय प्रतिरक्षा को मजबूत करता है और गले में ठंडक को दूर करने में मदद करता है।

By Prity Singh 
Updated Date

भारत में कोविड-19 की दूसरी लहर के गंभीर रूप से प्रभावित होने के बाद, संभावित तीसरी लहर का डर लोगों के मन में मंडरा रहा है। इस कठिन समय के दौरान, एक चीज जो हर कोई हासिल करना चाहता है, वह है एक स्वस्थ प्रतिरक्षा।

महामारी के कारण अराजकता को बढ़ाते हुए, मानसून का मौसम कई कीटाणुओं और बीमारियों को साथ लाता है। कमजोर इम्युनिटी वाले लोगों को इस मौसम में बीमार पड़ने का सबसे ज्यादा खतरा होता है। अपने दैनिक आहार में स्वस्थ खाद्य पदार्थों को शामिल करने और इस मौसम में बाहर के खाने से बचने का सुझाव दिया जाता है। मौसमी बीमारियों से लड़ने के लिए सबसे प्रभावी है हल्‍दी-तुलसी का ये काढा। यह पेय प्रतिरक्षा को मजबूत करता है और गले में ठंडक को दूर करने में मदद करता है।

काढ़ा बनाने की सामग्री

अगर आपकी इम्यूनिटी बहुत ज्यादा कमजोर है तो आपको हल्दी और तुलसी का काढ़ा जरूर आजमाना चाहिए। आपको काढ़ा बनाने के लिए बहुत ही साधारण सी सामग्री की जरूरत होगी जो आसानी से आपकी रसोई में भी मिल जाएगी। काढ़ा के अंदर इस्तेमाल की जाने वाली सामग्री कुछ इस प्रकार है।

आधा चम्मच हल्दी

8-12 तुलसी के पत्ते

2-3 बड़े चम्मच शहद

3-4 लौंग

1 दालचीनी स्टिक

काढ़ा कैसे बनाते हैं

एक पैन लें और उसमें एक गिलास पानी डालें। अब इसमें हल्दी पाउडर, तुलसी के पत्ते, लौंग और दालचीनी डालें। मिश्रण को 15 मिनट तक उबलने दें। फिल्टर पानी का प्रयोग अवश्य करें। 15 मिनट बाद पानी को छान लें और गुनगुना कर लें। स्वाद बढ़ाने के लिए आप इसमें थोड़ा सा शहद मिला सकते हैं। प्रतिरक्षा में सुधार और सर्दी और फ्लू को ठीक करने के लिए आप इस कड़ा को दिन में दो से तीन बार खा सकते हैं।

काढ़ा पीने के स्वास्थ्य लाभ

मधुमेह के रोगी अपने रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रण में रखने के लिए पेय का सेवन कर सकते हैं।

1 यह आपके शरीर को विषाक्त पदार्थों से छुटकारा पाने में मदद करता है और आपकी प्रतिरक्षा में सुधार करता है।

2 ड्रिंक के सेवन से कब्ज और लूज मोशन से जुड़ी समस्याएं भी दूर हो सकती हैं।

3 आपको सर्दी और गले की खराश से राहत दिलाता है।

तुलसी-हल्दी के फायदे

आयुर्वेद में तुलसी स्वास्थ्य लाभों के लिए जानी जाती है। ये सेहत के लिए काफी फायदेमंद है. इसमें एंटीबायोटिक, एंटी-वायरल, एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-कार्सिनोजेनिक जैसे गुण होते हैं। ये कई स्वास्थ्य समस्याओं को दूर करने का काम करती है।

हल्दी में करक्यूमिन नाम के एंटी इफ्लेमेटरी और एंटी ऑक्सीडेंट की भरपूर होता हैं। जो इम्युनिटी बढ़ाने में मदद करता है. इसमें मौजूद एंटी ऑक्सीडेंट कोशिकाओं को ठीक करन में मदद करता है। हल्दी में एंटी इंफेलेमटरी गुण होते हैं जो सूजन को कम करने में मदद करता है। आप हल्दी का इस्तेमाल जोड़ों के दर्द से छुटकारा पाने के लिए कर सकते हैं।

नोट – ध्यान रहे कि यह काढ़ा महज एक उपाय है, जिससे कई समस्याओं से राहत मिल सकती है। लेकिन यह किसी बीमारी की दवा नहीं है। इसलिए अगर आपको कोई समस्या है तो आप डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...