Home उत्तराखंड कुंभ के पहले पर्व स्नान को तैयार किया गया ट्रैफिक प्लान कहीं पुलिस के लिए ही मुसीबत न बन जाए, इसे लेकर पुलिस भी चिंतित

कुंभ के पहले पर्व स्नान को तैयार किया गया ट्रैफिक प्लान कहीं पुलिस के लिए ही मुसीबत न बन जाए, इसे लेकर पुलिस भी चिंतित

1 second read
0
13

रुड़की: सहारनपुर और दिल्ली से आने वाले जिन वाहनों को वाया पुहाना भेजने का प्लान बनाया गया है। उस रास्ते पर दो चीनी मिल पड़ती है। यहां गन्ना लदे वाहन रूट डायवर्जन की व्यवस्था को प्रभावित कर सकते हैं। 14 जनवरी को मकर संक्रांति पर कुंभ का पहला स्नान है। कुंभ का पहला स्नान भी पुलिस के लिए बड़ी चुनौती है। दूसरे राज्यों से आने वाले वाहनों के लिए रुड़की और देहात क्षेत्र हमेशा से बड़ी चुनौती रहा है। यातायात व्यवस्था को लेकर पुलिस अधिकारी भी टेबल पर बड़ा होमवर्क कर चुके हैं।

कुंभ के पहले स्नान को लेकर पुलिस ने ट्रैफिक प्लान बनाया है। यह ट्रैफिक प्लान 13 जनवरी की रात से लागू हो जाएगा। प्लान के तहत दिल्ली और सहारनपुर की तरफ से आने वाले कई राज्यों के वाहनों को दो जगह डायवर्ट कर हरिद्वार बैरागी कैंप भेजा जाएगा। रुड़की से कोई वाहन हरिद्वार नहीं जाएगा। दिल्ली से आने वाले वाहनों को नारसन से मंगलौर, लंढौरा होते हुए लक्सर भेजा जाएगा। यहां से वाहन आगे जाएंगे। इसी प्रकार सहारनपुर से आने वाले वाहनों को पुहाना से झबरेड़ा और मंगलौर के रास्ते लंढौरा होते हुए लक्सर भेजा जाएगा। पुलिस ने यह प्लान तो बनाया है लेकिन इस प्लान में दोनों चीनी मिल बड़ा रोड़ा अटका सकती है।

पुहाना-इकबालपुर मार्ग पर चीनी मिल है, जबकि दूसरी चीनी मिल लिब्बरहेडी में है। दोनों चीनी मिल में प्रतिदिन 40 हजार वाहन गन्ना लेकर आते हैं। ऐसे में डायवर्जन के दौरान यह वाहन जाम का सबब बन सकते है। इसे लेकर पुलिस भी मंथन कर वैकल्पिक व्यवस्था में लगी है। लक्सर का क्षतिग्रस्त मार्ग भी बनेगा परेशानी रुड़की-लक्सर मार्ग भी जगह जगह से क्षतिग्रस्त है। लंढैरा से लक्सर जाने वाले वाहनों को इस मार्ग पर गड्ढे झेलने होंगे। इससे भी डायवर्जन में परेशानी हो सकती है। ऐसे में यहां पर जाम लगना लाजिमी है। इसका भी पुलिस को तोड़ निकालना होगा।

कुंभ के पहले स्नान में बाहर से आने वाले वाहनों को हरिद्वार भेजने के लिए दो जगह डायवर्जन प्वाइंट बनाए गए हैं। रुड़की को फ्री रखा जाएगा। हरिद्वार से आने वाले वाहनों को ही रुड़की से होकर निकाला जाएगा। जिससे की हाईवे पर जाम नहीं लगे।

यातायात निरीक्षक मोहम्मद अकरम ने बताया कि रूट डायवर्जन में गन्ना लदे वाहनों से कोई परेशानी न हो इसके लिए चीनी मिल प्रबंधन को एक पत्र भेजा गया है। जिसमें मिल प्रबंधन से यातायात व्यवस्था में सहयोग मांगा गया है। मिल प्रबंधन से पहले ही गन्ने का पूरा स्टॉक रखने का आग्रह किया गया है। 14 जनवरी को किसान गन्ना लेकर चीनी मिल न आएं।

Load More In उत्तराखंड
Comments are closed.