1. हिन्दी समाचार
  2. विदेश
  3. तालिबान के सामने कमजोर पड़ा ‘पंजशीर का शेर’, की बातचीत की पेशकश; कहा- हम शांतिपूर्ण तरीके से विवाद के हल के लिए तैयार

तालिबान के सामने कमजोर पड़ा ‘पंजशीर का शेर’, की बातचीत की पेशकश; कहा- हम शांतिपूर्ण तरीके से विवाद के हल के लिए तैयार

अफगानिस्तान के पंजशीर में तालिबान और रेजिस्टेंस फोर्स के बीच जंग जारी है। एक तरफ जहां तालिबान पंजशीर को अपने कब्जे में लेने की कोशिश कर रहा है। वहीं अब पंजशीर रेजिस्टेंस फ्रंट थोड़ा कमजोर होता दिख रहा है। आपको बता दें कि रविवार को लड़ाई में पंजशीर के कई शीर्ष कमांडर मारे गए हैं।

By Amit ranjan 
Updated Date

नई दिल्ली : अफगानिस्तान के पंजशीर में तालिबान और रेजिस्टेंस फोर्स के बीच जंग जारी है। एक तरफ जहां तालिबान पंजशीर को अपने कब्जे में लेने की कोशिश कर रहा है। वहीं अब पंजशीर रेजिस्टेंस फ्रंट थोड़ा कमजोर होता दिख रहा है। आपको बता दें कि रविवार को लड़ाई में पंजशीर के कई शीर्ष कमांडर मारे गए हैं।  बताया जा रहा है कि पाकिस्तानी वायुसेना की ओर से पंजशीर में ड्रोन हमले किए गए हैं। इस ड्रोन हमले में पंजशीर के प्रवक्ता फहीम दश्ती की मौत हो गई । फहीम अहमद मसूद के काफी करीबी थे।

पाकिस्तान एयरफोर्स की ओर से छोड़े गए ड्रोन हमलों में मसूद परिवार से जुड़े कमांडर भी मारे गए हैं। इनमें गुल हैदर खान, मुनीब अमीरी और अब्दुल वुदूद शामिल हैं। इस सब के बीच अफगानिस्तान में तालिबान के पंजशीर के शेर कहने वाले अहमद मसूद ने तालिबान के सामने एक बार फिर शांति वार्ता का प्रस्ताव रखा है। मसूद ने दावा किया है कि तालिबान ने अपने लड़ाकों को पंजशीर से वापस बुला लिया है। तालिबानी लड़ाके बागलान प्रांत के अंदराब जिले से भी पीछे हट गये हैं।

मसूद ने कहा कि तालिबानियों के पीछे हटने के बाद NRF ने अपना मिलिट्री ऑपरेशन रोकने का ऐलान किया है। कल रात ही NRF ने कहा था कि अगर तालिबान अपने लड़ाकों को वापस बुला लेता है तो वो मिलिट्री ऑपरेशंत रोक देंगे और शांति वार्ता में शामिल होंगे।

NRF के लीडर अमहद मसूद ने फेसबुक पोस्ट में लिखा था, ”मौजूदा समस्याओं को हल करने, युद्ध को रोकने और बातचीत की प्रक्रिया को जारी रखने के लिए NRF सहमत है। और उम्मीद करता है कि तालिबान इस मांग पर व्यावहारिक कदम उठाएगा। शांति के लिए NRF युद्ध रोकने को तैयार है। अगर तालिबान पंजशीर और अंदराब में अपने सैन्य हमलों को रोक देता है तो बातचीत हो सकती है।” हालांकि NRF और तालिबन के बीच सुलह की कोशिश ऐलान-ए-जंग से पहले भी हुई थीं लेकिन वो नाकाम रही।

रेसिस्टेंस फ्रंट के सिर फोड़ा ठीकरा

तालिबान बातचीत फेल होने का ठीकरा रेसिस्टेंस फ्रंट के सिर फोड़ रहा है। तालिबानी नेता अहमदुल्ला वासिक ने चीनी मीडिया से बात करते हुए बयान दिया है कि पंजशीर अफगानिस्तान का हिस्सा है। विरोध करने वालों से हमने शांतिपूर्ण तरीके से हमारे साथ शामिल होने की पेशकश की लेकिन उन्होंने ठुकरा दिया। हमारा मकसद है कि स्थानीय लोगों को नुकसान ना हो। चूंकि बातचीत फेल हो गई है इसलिए हमारे पास सैन्य कार्रवाई के अलावा दूसरा विकल्प नहीं है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...