Home उत्तर प्रदेश 12 जनवरी को सपा का युवा घेरा कार्यक्रम

12 जनवरी को सपा का युवा घेरा कार्यक्रम

11 second read
0
13

12 जनवरी को सपा का युवा घेरा कार्यक्रम

युवा शक्ति के प्रेरणा स्रोत स्वामी विवेकानंद की जयंती 12 जनवरी को समाजवादी पार्टी ने प्रदेश में युवा घेरा कार्यक्रम के तौर पर मनाने का एलान किया है । समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि आगामी 12 जनवरी को समाजवादी पार्टी के युवा कार्यकर्ता हर जिले में युवाओं के साथ मिलकर ऐसा कार्यक्रम करेंगे जिसमें युवाओं से जुड़े विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की जाएगी।

युवा घेरा कार्यक्रम के रूप में स्वामी विवेकानंद की जयंती मनाने का आव्हान करने वाले अपने बयान में उन्होंने कहा कि स्वामी विवेकानंद ऐसे संत थे, जिन्होंने अध्यात्म को सामाजिक सरोकारों से भी जोड़ा था। उनके राष्ट्रवाद में गरीबों, वंचितों के प्रति त्याग, सेवा और समर्पण को प्राथमिकता थी। उन्होंने विश्व को भारतीय ज्ञान, संस्कृति एवं गौरव का बोध कराया।

युवाओं से सम्बन्धित समस्याओं पर चर्चा

सपा नेता ने कहा कि स्वामी विवेकानंद जी की जयंती पर घेरा बनाकर युवाओं से सम्बन्धित समस्याओं पर चर्चा की जाएगी। इन चर्चाओं पर छात्रों-नौजवानों की सक्रिय भागीदारी होगी। हर जिले में समाजवादी पार्टी छात्रों-नौजवानों से सम्बंधित मुद्दों पर सार्वजनिक परिचर्चा और संगोष्ठियों का आयोजन करेगी। समाजवादी पार्टी के युवा प्रकोष्ठों के पदाधिकारी भी युवा घेरा कार्यक्रम में सक्रिय भागीदारी करेंगे।

उन्होंने कहा कि आज नौजवानों के सामने मंहगी होती शिक्षा और रोजगार बड़ी समस्या हैं। जहां नौजवान सरकारी विसंगतियों के खिलाफ आवाज उठाते हैं उनका उत्पीड़न शुरू हो जाता है। उन पर तमाम आरोप लगते हैं, फर्जी मुकदमों में फंसाया जाता है। युवाओं-छात्रों का भविष्य बिगाड़ने के लिए उन पर एन.एस.ए. भी लगा दिया जाता है। नौजवानों की जिंदगी के सामने आज अंधेरा छाया हुआ है। भाजपा सरकार की कुनीतियों के चलते रोटी-रोजगार के अवसर कम हुए है।

भाजपा पर किया हमला

भाजपा सत्ता में नौजवानों को हर वर्ष दो करोड़ रोजगार देने के वादे के साथ आई थी। उसके हर वादे की तरह यह वादा भी हवा हवाई साबित हुआ है। प्रदेश में पूंजीनिवेश आया नहीं, नए उद्योग लगे नहीं, इच्छुक निवेशकर्ताओं को भी सरकार से उपेक्षा मिली और लाकडाउन में तो तमाम फैक्ट्रियां भी बंद हो गई। व्यापार चौपट हो गया। बड़े पैमाने पर श्रमिकों का पलायन हुआ। नौकरियों में छंटनी हुई। बेरोजगारी पर कहीं रोक नहीं लगी सरकारी विभागों में रिक्तियां होने के बावजूद भर्तियां रूकी हुई है।

परेशान हाल नौजवानों ने निराशा में आत्महत्याएं की हैं। समाजवादी सरकार में कौशल प्रशिक्षण के साथ जो रोजगार के अवसर सृजित किए गए थे भाजपा राज में उन्हें भी बंद कर दिया गया। नौकरियों के अवसर घटते जा रहे हैं। निजीकरण ने तमाम विभागों में युवा कर्मचारियों के सामने अनिश्चितता के हालात पैदा कर दिए हैं। युवाओं को योग्यता के अनुसार काम नहीं मिल पा रहा है।

भाजपा राज में सबसे ज्यादा असुरक्षित बहन-बेटियां
भाजपा राज में सबसे ज्यादा असुरक्षित है। बहन-बेटियां जिनके साथ दुष्कर्म के काण्ड बढ़ते जा रहे हैं। छोटी-छोटी मासूम बच्चियां तक हैवानियत का शिकार बनाई जा रही हैं। महिलाओं का रास्ता चलना मुश्किल हो गया है। कानून व्यवस्था चौपट है। समाजवादी सरकार ने अपराध नियंत्रण के लिए जो यूपी डायल 100 नम्बर और 1090 वूमेन पावर लाइन सेवाएं शुरू की थी उन्हें बर्बाद कर दिया गया है। मुख्यमंत्री का रोमियो स्क्वाड कहीं नज़र नहीं आता है।

Load More In उत्तर प्रदेश
Comments are closed.