Home उत्तर प्रदेश मां को तड़पता देख जान जोखिम में डालकर मुंह से ऑक्सीजन देने लगी बेटियां, तमाशबीन बना रहा प्रशासन, वीडियो वायरल

मां को तड़पता देख जान जोखिम में डालकर मुंह से ऑक्सीजन देने लगी बेटियां, तमाशबीन बना रहा प्रशासन, वीडियो वायरल

2 second read
0
428

नई दिल्ली : कोरोना की आग में बेबस जनता को झोक चुकी सरकार अब बेबस नजर आ रही है, क्योंकि जिस चुनाव को लेकर उन्होंने आम जनता के जानों के साथ खिलवाड़ किया, अब वो उसमें हारती नजर आ रही है। फिर भी सरकार, सरकार है साहब, क्योंकि इसमें किसी एक सरकार को दोषी नहीं माना जा सकता। सभी राजनीतिक पार्टियों का वहीं हाल है। अगर उन्हें अपने जनता की चिंता होती, तो आज लोग अस्पतालों या घरों में तड़प-तड़प कर मरते नजर नहीं आते।

एक ऐसा ही दृश्य यूपी बहराइच में देखने को मिला, जहां ऑक्सीजन की कमी का भयानक मंजर देखने को मिला। योगी सरकार कहती है उनके राज्य में किसी तरह की ऑक्सीजन या दवाईयों की कमी नहीं है, लेकिन जिस प्रकार लोगों के मौतों का ग्राफ बढ़ता जा रहा है, उससे योगी सरकार भी बेबस नजर आ रही है। इसी बेबसी का सामना कर रही है, यूपी के बहराइच की ये दो बेटियां।

दरअसल अपनी कोरोना संक्रमित मां को बचाने एवं बेहतर इलाज के लिए ये दोनों बेटियां अस्पताल लेकर आती है, जिससे वो उन्हें बचा सकें। लेकिन मां को अपने आंखों के सामने तड़पता देख, ये दोनों बेटियां बिना अपनी जान के परवाह किये बिना अपनी मुंह से ऑक्सीजन देने लगती है। जिसका वीडियो लगातार वायरल हो रहा है।

वीडियो के फोटोज में आप देख सकते है कि यह वीडियो इमरजेंसी वार्ड का है। जिसमें बीमार मां को एक बेटी अपने मुंह से ऑक्सीजन दे रही है। अब सवाल यह उठता है कि जो सरकार लगातार ऑक्सीजन औऱ दवाईयों की पर्याप्त होने की बात कह रही है, तो वो दवा और ऑक्सीजन कहां गये। क्या उसकी कालाबाजारी हो रही है, या उसे स्टॉक किया जा रहा है।

आपको बता दें कि यूपी के बहराइच का यह पहला ऐसा मामला नहीं है, जहां मरीज और मरीजों के परिवारों को दवा और अस्पताल की सुविधा का सामना करना पड़ा । इससे पहले भी इस तरह के ऐसे कई मामले सामने आ चुके है। बहराइच में ऑक्सीजन की कमी कोई नई बात नहीं है लेकिन जिला अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी को पूरा करने के लिए मरीज के तीमारदार खुद आगे आ रहे हैं।

भारत में पिछले 24 घंटों में कोरोना केस

देश में वैश्विक महामारी कोरोना का तेज प्रसार थमने का नाम नहीं ले रहा है। भारत में पिछले 24 घंटे में कोविड-19 के 3,92,488 नए मामले आने के बाद कुल पॉजिटिव मामलों की संख्या 1,95,57,457 हुई जो विश्व भर में सबसे अधिक हैं। वहीं एक दिन पहले देश में 1 मई को कोरोना के 4 लाख से ज्यादा मामले रिकॉर्ड किए गए थे। जो अभी तक सबसे ज्यादा है।

केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने रविवार को यह जानकारी दी। पिछले 24 घंटों के दौरान 3,689 नई मौतों के बाद कुल मौतों की संख्या 2,15,542 हो गई है। देश में सक्रिय मामलों की कुल संख्या 33,49,644 है और डिस्चार्ज हुए मामलों की कुल संख्या 1,59,92,271 है।

विशेषज्ञों के आकलन के अनुसार, भारत के कोरोनो वायरस मामले अगले सप्ताह तीन से पांच मई के बीच चरम पर हो सकते हैं। संक्रमण पर नजर रखने के लिए गठित वैज्ञानिकों के समूह के प्रमुख एम विद्यासागर के अनुसार-,”हमारा अनुमान है कि अगले सप्ताह तक, देश भर में रोज बढ़े हुए कोरोना के मामले सामने आयेंगे।” ये अनुमान सरकार को सलाह देने वाले वैज्ञानिकों के एक दल ने गणितीय मॉडल के आधार पर बताया है।

तीसरे चरण की वैक्सीनेशन की शुरूआत

देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस की 18,26,219 वैक्सीन लगाई गईं, जिसके बाद कुल वैक्सीनेशन का आंकड़ा 15,68,16,031 हुआ। बता दें कि 1 मई से देश में वैक्सीनेशन का तीसरा चरण शुरू हो गया है। जिसमें 18 से अधिक उम्र वालों का टीकाकरण किया जा रहा है।

Load More In उत्तर प्रदेश
Comments are closed.