Home देश बंजारा समाज के धर्मगुरु संत रामराव महाराज का निधन, पीएम मोदी और अमित शाह ने ट्वीट कर किया शोक व्यक्त

बंजारा समाज के धर्मगुरु संत रामराव महाराज का निधन, पीएम मोदी और अमित शाह ने ट्वीट कर किया शोक व्यक्त

1 min read
0
2

बंजारा समाज के शीर्ष धर्मगुरु संत रामराव महाराज का निधन हो गया है। उन्होंने मुंबई के लीलावती अस्पताल में अपनी आखिरी सांसें ली। संत रामराव महाराज की उम्र 89 साल थी।

संत रामराव महाराज बढ़ती उम्र संबंधी परेशानियों की वजह से लीलावती अस्पताल में भर्ती थे। कई दिनों से उनका इलाज चल रहा था। रामराज महाराज देशभर में बंजारा समाज के प्रमुख संत थे। पूरे देश भर में महाराज के 12 करोड़ से ज्यादा अनुयायी थे।

इस मौके पर पीएम मोदी ने शोक प्रकट करते हुए लिखा श्री रामराव बापू महाराज जी को समाज और समृद्ध आध्यात्मिक ज्ञान के लिए उनकी सेवा के लिए याद किया जाएगा।

पीएम मोदी ने आगे लिखा उन्होंने गरीबी और मानव पीड़ा को कम करने के लिए अथक प्रयास किया। मुझे कुछ महीने पहले उनसे मिलने का सम्मान मिला था। इस दुख की घड़ी में, मेरे विचार उनके भक्तों के साथ हैं। शांति

 

अमित शाह ने ट्वीट कर लिखा समाज सुधारक और आध्यात्मिक गुरु श्री रामराव बापू महाराज का निधन हम सभी के लिए एक बहुत बड़ी क्षति है। उनका पूरा जीवन गरीबों और दलितों के उत्थान के लिए समर्पित था, उन्हें उनके नेक कामों के लिए हमेशा याद किया जाएगा। मेरी संवेदना उनके भक्तों के साथ है। शांति

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ने लिखा राज्य सरकार से मेरा अनुरोध है कि देश भर में श्री संत रामरावजी महाराज के जीवन कार्य और बंजारा बंधुओं की भावनाओं को देखते हुए उनका अंतिम संस्कार किया जाए।

उन्होंने एक के बाद एक कई ट्वीट किए फड़नवीस ने अपने अगले में लिखा श्री संत रामरावजी महाराज का आशीर्वाद प्राप्त करने का सौभाग्य मुझे अक्सर मिला है। पोहरदेवी संस्थान के विकास के लिए हमारे समय में कई निर्णय किए गए थे। मैं उनकी स्मृति को तीन बार सलाम करता हूं।

उन्होंने आगे लिखा वाशिम जिले में श्री पोहरदेवी संस्थान के प्रमुख और श्री संत सेवालालजी महाराज के वंशज श्री संत रामरावजी महाराज ने अपना पूरा जीवन कई सामाजिक सुधारों के लिए समर्पित कर दिया। वह लगातार अंधविश्वास, नशामुक्ति, शिक्षा के प्रसार पर जोर दे रहे थे।

पूर्व मुख्यमंत्री फड़नवीस ने आगे लिखा वाशिम जिले में श्री पोहरदेवी संस्थान के प्रमुख और श्री संत सेवालालजी महाराज के वंशज श्री संत रामरावजी महाराज ने अपना पूरा जीवन कई सामाजिक सुधारों के लिए समर्पित कर दिया। वह लगातार अंधविश्वास, नशामुक्ति, शिक्षा के प्रसार पर जोर दे रहे थे।

संत रामराव महाराज बंजारा समाज के 12 करोड़ लोगों के निर्विवादित तौर पर शीर्ष धर्मगुरु माने जाते थे। इसीलिए राजनीतिक गलियारों में भी उनका प्रभाव था। हालांकि वो कभी राजनीति से सीधे तौर पर तो नहीं जुड़े, लेकिन उनसे शीर्ष राजनेता आशीर्वाद लेने जरूर पहुंचते रहे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस जैसे नेता भी संत रामराव महाराज से आशीर्वाद ले चुके हैं।

Load More In देश
Comments are closed.