Home देश राज्यसभा से 8 सांसदों को सभापति वेंकैया नायडू ने पूरे सत्र के लिए किया निलंबित, उपसभापति के खिलाफ अविश्‍वास प्रस्‍ताव भी खारिज

राज्यसभा से 8 सांसदों को सभापति वेंकैया नायडू ने पूरे सत्र के लिए किया निलंबित, उपसभापति के खिलाफ अविश्‍वास प्रस्‍ताव भी खारिज

30 second read
0
7

राज्यसभा में कृषि बिल पर चर्चा के दौरान रविवार को हंगामा और उपसभापति हरिवंश के साथ अमर्यादित आचरण करने वाले आठ सांसदों को बचे हुए सत्र के लिए सभापति वेंकैया नायडू ने निलंबित कर दिया है। सभापति वेंकैया नायडू ने डेरेक ओ’ब्रायन, संजय सिंह, राजीव सातव, के.के. रागेश, रिपुन बोरा, डोला सेन, सैयद नजीर हुसैन और एलामरम करीम को निलंबित कर दिया।

राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव को भी सभापति ने खारिज कर दिया है। उन्होंने कहा कि कल का दिन राज्यसभा के लिए सबसे खराब दिन था। कुछ सदस्यों के आचरण ने शिष्टाचार की सभी सीमाओं को पार कर दिया, जिससे सदन की प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचा।

सभापति की इस कार्रवाई के बाद भी निलंबित सांसद सदन से नहीं निकले और हंगामा जारी रहा, जसकी वजह से सुबह से चार बार राज्यसभी की कार्यवाही स्थिगित हो चुकी है।

सांसद वी. मुरलीधरन ने कहा कि निलंबित सदस्यों को सदन में रहने का कोई अधिकार नहीं है। सदन गैर-सदस्यों की उपस्थिति मेंके साथ काम नहीं कर सकता है।

उप सभापति हरिवंश ने सभापति द्वारा नामित सदस्यों से सदन की कार्यवाही में भाग नहीं लेने का आग्रह किया। विपक्षी सांसदों के हंगामे के बाद सदन की कार्यवाही सुबह 10.36 बजे तक स्थगित कर दिया गया है।

सभापति वेंकैया नायडू ने सोमवार को सदन की कार्यवाही के दौरान कहा, “रविवार का दिन राज्‍यसभा के लिए बहुत खराब दिन था। कुछ सदस्‍य सदन के वेल तक आ गए। उपसभापति के साथ धक्‍कामुक्‍की की गई और उनपर आपत्तिजनक टिप्पणी की गई।

सांसदों ने पेपर को फेंका और माइक को तोड़ दिया। रूल बुक को फेंका गया।” उन्होंने कहा कि इस घटना से मैं बेहद दुखी हूं। नायडू ने कहा कि सदन की कार्यवाही के रिकार्ड के अनुसार उपसभापति ने सदस्यों को अपने स्थानों पर जाने और सदन में हंगामा नहीं करने तथा अपने संशोधन पेश करने के लिए बार- बार कहा था।

सभापति ने उपसभापति के खिलाफ विपक्षी सांसदों की तरफ से लाया गया अविश्‍वास प्रस्‍ताव को नियमों के हिसाब से सही नहीं होने का हवाला देते हुए खारिज कर दिया। उपसभापति ने यह भी कहा था कि सदस्य अपने स्थानों पर लौट जाएं और उसके बाद वह मतविभाजन कराएंगे।

Load More In देश
Comments are closed.