1. हिन्दी समाचार
  2. विदेश
  3. चुनाव में मिली हार को नहीं बर्दाश्त कर पाया इस देश का पीएम, संसद में लगा दिया ताला

चुनाव में मिली हार को नहीं बर्दाश्त कर पाया इस देश का पीएम, संसद में लगा दिया ताला

By Amit ranjan 
Updated Date

नई दिल्ली : कुर्सी का नशां एक ऐसा नशा होता है, जो एक बार किसी के दिमाग पर चढ़ जाएं तो जल्दी उतरने का नाम नहीं लेता है। ऐसा ही कुछ इस देश के साथ हुआ। जहां चुनाव मिली हार के बाद भी पीएम ने पद छोड़ने से इनकार कर दिया और संसद में ताला में लगा दिया। आपको बता दें कि इस देश में पहली बार ऐसा हुआ है, जब इस देश को पहली महिला प्रधानमंत्री मिली है। लेकिन सत्ता को हाथ से जाने से नाखुश मौजूदा पीएम ट्विलाएपा सैलेले मैलिलेगाओई ने पद छोड़ने से मना कर दिया है।

आपको बता दें कि हम बात कर रहे है प्रशांत सागर क्षेत्र में स्थित एक देश समोआ की। संसद में ताला लगने की वजह से पहली महिला पीएम नाओमी मताफा को संसद के बाहर तंबू लगाकर शपथ लेनी पड़ी। इसके बाद से ही देश में नेतृत्व का संकट खड़ा हो गया है। बता दें कि,  समोआ में 40 सालों से शासन कर रही ह्यूमन राइट्स प्रोटेक्शन पार्टी को मताफा की फास्ट पार्टी ने अप्रैल में हुए चुनाव में हरा दिया था। इधर, मैलिलेगाओई इस समारोह को मानने तैयार नहीं हैं। उन्होंने इसे अनाधिकारिक करार दिया है।

आपको बता दें कि एचआरपीपी और फास्ट पार्टी के बीच चुनाव बेहद कड़ा मुकाबला देखने को मिला था। इस दौरान दोनों पार्टियों ने 25-25 सीटें हासिल की, लेकिन इसके बाद एक निर्दलीय विजेता ने फास्ट को अपना समर्थन दिया था। इस फैसले के बाद एचआरपीपी ने सत्ता बचाने के लिए कानून का सहारा लिया और अदालत में कहा कि विरोधियों ने महिला सांसद कोटे का पालन ठीक तरह से नहीं किया है।

इसके बाद चुनाव आयोग ने अप्रैल के मतदान के नतीजों को रद्द किया और 21 मई को नए चुनाव का ऐलान कर दिया। लेकिन पांच दिन पहले सुप्रीम कोर्ट ने अप्रैल के चुनाव को ठीक बताया, जिसके बाद एचआरपीपी को इस फसले से काफी निराशा हुई।

बता दें कि पीएम मैलिलेगाओई ने इस चुनाव से पहले देश पर 22 सालों तक शासन किया था। समोआ ने साल 1962 में न्यूजीलैंड से आजादी हासिल की थी। बहरहाल, अब इस पॉलिटिकल संकट से कैसे निपटा जाएगा हर किसी की निगाहें इस देश पर टीकी हुई हैं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
RNI News Ads