1. हिन्दी समाचार
  2. वायरल
  3. दुनिया के इस देश में लगा लोगों के हंसने या खुश होने पर बैन, रोने तक पर कड़ा पहरा; जानिए क्या है पूरा मामला

दुनिया के इस देश में लगा लोगों के हंसने या खुश होने पर बैन, रोने तक पर कड़ा पहरा; जानिए क्या है पूरा मामला

People are banned for laughing or being happy in this country of the world, till they cry; उत्तर कोरिया ने अपने देश की जनता के हंसने और रोने पर रोक लगा दिया है। इसके साथ ही उन्होंने लोगों के दुखों पर भी कड़ा पहरा लगा दिया है। जिससे वे खुलकर न हंस सकेंगे और न खुलकर रो सकेंगे।

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

नई दिल्ली : कहा जाता है कि हंसना सेहत के लिए बहुत लाभदायक है, वहीं रोने से आप कई सारे तनाव से मुक्त होते है। लेकिन दुनिया के इस देश में लोगों के हंसने और रोने पर कड़ा प्रतिबंध लगा दिया गया है। जिससे वे न तो हंस सकते है और न खुलकर रो सकते है। क्योंकि इस समय यह देश शोक मना रहा है, वो भी अपने पूर्व नेता किम जोंग इल की 10वीं बरसी का।

11 दिनों का लगाया बैन

आपको बता दें कि वह देश है उत्तर कोरिया। जिसने पूर्व लीडर के निधन के 10 साल पूरे होने पर उत्तर कोरिया की जनता पर 11 दिनों का बैन लगाया गया है। इस दौरान देश के लोग न हंस सकते हैं और न ही शराब पी सकते हैं। सरकारी अधिकारियों ने किम जोंग इल के निधन की याद में लोगों को किसी भी तरह की खुशी न जाहिर करने का सख्त आदेश दिया है। किम जोंग इल ने उत्तर कोरिया पर 1994 से 2011 तक शासन किया, जब उनकी मृत्यु हो गई थी।

यह भी पढ़े : नेशनल शूटर Konica Layak की रहस्यमयी मौत, चल रहीं थीं शादी की तैयारी; सामने आई मौत की खबर

डेलीमेल की खबर के मुताबिक किम जोंग इल के बाद उनके तीसरे और सबसे छोटे बेटे किम जोंग उन ने देश की कमान संभाली। अब उनके निधन के 10 साल पूरे होने पर उत्तर कोरिया के लोगों को 11 दिनों का ‘सख्त’ शोक मनाने का आदेश दिया गया है। इस दौरान कोई भी हंसकर या शराब पीकर अपनी खुशी जाहिर नहीं कर सकता। रेडियो फ्री एशिया से बात करते हुए सिनुइजू शहर के एक निवासी ने बताया कि शोक अवधि के दौरान हम शराब सेवन, हंसना या दूसरी खुशनुमा गतिविधियां नहीं कर सकते हैं।

यह भी पढ़े : Shilpa Shetty हुईं Oops Moment का शिकार, वीडियो हुई वायरल, देखें

नियम तोड़ने वाले दोबारा कभी नहीं आए नजर

किम जोंग इल की मृत्यु 17 दिसंबर को हुई थी इसलिए इस दिन कोई भी सामान खरीदने के लिए बाजार नहीं जा सकेगा। सूत्रों के मुताबिक इतिहास में जो लोग शोक के दौरान शराब का सेवन करते या खुशी मनाते पाए गए उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया और वैचारिक अपराधी के रूप में सजा दी गई। अधिकारी उन्हें पकड़कर ले गए और फिर वे दोबारा कभी नजर नहीं आए। रिपोर्ट के मुताबिक शोक के दौरान अगर किसी के परिवार में कोई निधन हो जाता है तब भी उसे तेजी से रोने की अनुमति नहीं होती और वे शव को शोक खत्म होने के बाद ही बाहर लेकर जा सकते हैं।

यह भी पढ़े: Sheena Bora Murder Case:इंद्राणी मुखर्जी ने जेल से CBI को लिखा पत्र, कहा- जिंदा है sheena bora, कश्मीर में ढूंढें

लोगों के ‘दुख’ पर पुलिस का पहरा

कहा जाता है कि इस दौरान लोग अपना जन्मदिन नहीं मना सकते। एक दूसरे सूत्र ने बताया कि पुलिस अधिकारियों को लोगों पर लगातार नजर रखने के लिए कहा गया है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि वे पर्याप्त दुखी हैं। उत्तर कोरिया के क्रूर तानाशाह किम जोंग इल की मौत 17 दिसंबर 2011 को 69 साल की उम्र में हार्ट अटैक से हो गई थी। उन्होंने 17 साल देश पर शासन किया। उत्तर कोरिया में हर साल यह शोक मनाया जाता है जो 10 दिनों का होता है। लेकिन इस बार उनकी मौत के 10 साल पूरे होने पर यह 11 दिनों का होगा।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...