Home उत्तराखंड बड़ी खबर : कुंभ मेले से पहले ही नौनीताल उच्च न्यायालय का बड़ा झटका, भेजा मुख्य सचिव को समन

बड़ी खबर : कुंभ मेले से पहले ही नौनीताल उच्च न्यायालय का बड़ा झटका, भेजा मुख्य सचिव को समन

2 second read
0
14
nainital

नई दिल्ली : कुंभ मेला शुरू होने में महज दो दिन बचे है, उससे पहले ही नैनीताल उच्च न्यायालय ने बड़ा झटका दिया है। जिससे श्रद्धालुओं में काफी निराशा है। गौरतलब है कि उच्च न्यायालय ने कुभं मेले के पुख्ता इंतजामों पर मुख्य सचिव को समन भेजा है। इसके साथ ही उन्होंने महाकुंभ में भीड़ नियंत्रण व अन्य व्यावस्था के मामले में सचिव स्वास्थ्य, मेलाधिकारी और जिलाधिकारी को बैठक कर कार्ययोजना आधारित रिपोर्ट पेश करने के निर्देश भी दिए हैं।

nainital
नैनिताल हाइ कोर्ट

नैनीताल उच्च न्यायालय ने मुख्य सचिव, स्वास्थ्य सचिव, हरिद्वार के डीएम और कुंभ मेला अधिकारी को 13 जनवरी को कोर्ट में मौजूद रहने को भी कहा है। गौरतलब है कि कुंभ मेला देश का एक प्रमुख मेला है, जिसमें देश विदेश से ना जानें कितने श्रद्धालु आते है औऱ करोड़ों की संख्या में श्रद्धालु आते है। जिसे लेकर कोर्ट में सुरक्षा के लिहाज से एक याचिका दाखिल किया गया। जिसमें कोरोना को देखते हुए सुरक्षा इंतजामों पर सवाल खड़ा किया गया है। इसे लेकर आज कोर्ट ने मुख्य सचिव को समन भेजा।

आपको बता दें कि इस बार कुंभ मेले में 6 प्रमुख स्नान हैं जिसमें पहला स्नान मकर संक्रांति के दिन, दूसरा स्नान 11 फरवरी को मौनी अमावस्या पर, तीसरा स्नान 16 फरवरी को बसंत पंचमी पर, चौथा स्नान 27 फरवरी को माघ पूर्णिमा की तिथि पर, पांचवां स्नान 13 अप्रैल चैत्र शुक्ल प्रतिपदा पर और छठवां प्रमुख स्नान 21 अप्रैल को राम नवमी पर होगा। हालांकि, कुंभ मेले में स्नान के लिए आपको कोविड की निगेटिव रिपोर्ट दिखानी होगी।

कुंभ स्नान का महत्व

कुंभ स्नान को लेकर ऐसी मान्यता है कि इस स्नान को करने से हर तरह की बाधाओं से मुक्ति मिल जाती है। 14 जनवरी को मकर राशि में सूर्य के साथ गुरु, शनि, बुध और चंद्रमा भी रहेंगे. मकर संक्रांति के दिन इन 5 ग्रहों के योग से कुंभ का पहला स्नान और भी विशेष हो जाएगा। कुंभ में स्नान, दान और पूजा से जीवन में सुख शांति और समृद्धि आती है।

शाही स्नान की तीथी (Shaahi Snan Date 2021)

कुंभ में शाही स्नान का का भी विशेष महत्व होता है। इस बार कुंभ का शाही स्नान हरिद्वार में होगा। मान्यता है कि शाही स्नान अगर शुभ मुहूर्त में किया जाए तो ये अधिक फलदायी साबित होता है। यह मुहूर्त सुबह करीब 4 बजे शुरू हो जाता है, इस बार कुंभ में 4 शाही स्नान हैं.।

पहला शाही स्नान: 11 मार्च शिवरात्रि

दूसरा शाही स्नान: 12 अप्रैल सोमवती अमावस्या

तीसरा मुख्य शाही स्नान: 14 अप्रैल मेष संक्रांति

चौथा शाही स्नान: 27 अप्रैल बैसाख पूर्णिमा।

अब जबकि कुंभ मेला शुरू होने में महज 2 दिन शेष हैं तो अब देखना यह है कि मुख्य सचिव सुरक्षा को लेकर सोमवार को क्या जवाब देते हैं।

Load More In उत्तराखंड
Comments are closed.