1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. कोरोना संकट और लॉकडाउन के चलते लगातार टल रही थी शादी, 24 कि.मी. साइकिल चलाकर अकेले शादी के लिए पहुंचा दूल्हा

कोरोना संकट और लॉकडाउन के चलते लगातार टल रही थी शादी, 24 कि.मी. साइकिल चलाकर अकेले शादी के लिए पहुंचा दूल्हा

By Amit ranjan 
Updated Date

नई दिल्ली : देश में जारी लॉकडाउन और कोरोना महामारी के बीच ऐसे कई खबरें आपने पढ़े होंगे, जिसमें कभी दूल्हा, दुल्हन को लेने बाइक से जाता है, तो कभी खुद दुल्हन, दूल्हे के घर पहुंच जाती है। लेकिन हम यहां जिसकी बात कर रहे है, उस शख्स ने अपनी शादी के लिए एक, दो नहीं बल्कि 24 कि.मी. अकेले साइकिल चलाकर बिना बैंड-बाजा बारात के शादी की। और दुल्हन को विदा कर घर को लाया। आपको बता दें कि इस खबर के सामने आने के बाद दूल्हे की चारों ओर तारीफ हो रही है।

बता दें कि ये मामला बिहार के बांका जिले से सामने आया है। जहां शंभूगंज प्रखंड में रहने वाले गौतम कुमार की शादी पिछले साल जनवरी में तय हुई थी लेकिन कोरोना महामारी की वजह से उस समय ये शादी टल गई, इस साल भी लगातार लॉकडाउन के चलते शादी की तारीख टल रही थी। ऐसे में दूल्हे ने शादी को लेकर नायाब तरीका निकाला और बिना किसी साथी, बैंड-बाजा के दुल्हिनाय के घर करीब 24 किलोमीटर साइकिल चलाकर पहुंच गये। ससुराल पक्ष के लोगों ने युवक का शानदार स्वागत किया। साथ ही शादी की रस्म भी पूरी की। आपको बता दें कि दुल्हन कुमकुम कुमारी भागलपुर के सुल्तानगंज ब्लॉक में कंचननगर गांव की रहने वाली है।

बीते शुक्रवार को गौतम और कुमकुम की परिजनों ने शादी की। दूल्हे गौतम के इस कदम की जानकारी जब शंभूगंज के बीडीओ प्रभात रंजन को हुई तो वो खुद शादी समारोह में पहुंचे और दूल्हा-दुल्हन को आशीर्वाद दिया, साथ ही दूल्हे के घर ऊंचागांव भी पहुंचे और नव दंपत्ति गौतम कुमार और कुमकुम कुमारी को बधाई दी। साथ ही लिफाफे में कुछ पुरस्कार भी दिया।

बीडीओ ने की तारीफ, दिया इनाम

बीडीओ प्रभात रंजन ने कहा कि बांका जिला प्रशासन दुल्हन के लिए मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना के तहत इनाम की सिफारिश करेगा। उन्होंने बताया कि आवश्यक फॉर्म भरा जा रहा है। स्थानीय मुखिया की ओर से विवाह प्रमाण पत्र जारी करने के बाद इसे संबंधित अधिकारियों को भेजा जाएगा।

पिछले साल जनवरी में तय हुई थी शादी

गौतम और कुमकुम की शादी पिछले साल जनवरी में होनी थी। हालांकि, कोविड संक्रमण के कारण इसमें देरी हुई और दोनों परिवारों ने इसे 2021 के लिए टाल दिया। इसके बाद इस बार भी महामारी के बढ़ते संक्रमण और लॉकडाउन से शादी की डेट टलती दिखाई दी। आखिरकार दूल्हे गौतम ने खास फैसले के तहत करीब 15 महीने तक इंतजार के बाद अकेले ही शादी में शामिल होने और सात फेरे का फैसला लिया। गौतम अपने घर पर परिजनों की इजाजत लेने के बाद साइकिल से कुमकुम के घर पहुंचे और अपनी दुल्हनिया संग शादी के बंधन में बंध गए।

गौरतलब है कि एक तरफ जहां महामारी और लॉकडाउन को लेकर शादियां टल रही है। वहीं दूल्हे ने बिना किसी भीड़-भाड़ के शादी रचाई। जिससे दूल्हे के साथ-साथ उसके साथ आने वाले अन्य परिजन और साथी भी सुरक्षित रह गये। क्योंकि पिछले कुछ दिनों से लगातार शादी के बाद दूल्हा और दुल्हन के कोरोना पॉजीटीव और मौत होने की खबर आ रही है, जिसके जद में कई बाराती भी रहते है। जो दूल्हे के इस कदम से सुरक्षित रह गये।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
RNI News Ads