1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. डिप्टी CM केशव मौर्य ने टिकैत को दिया जवाब, कहा- शाहीनबाग की तरह टांय-टांय फिस्स होगा यह कथित किसान आंदोलन

डिप्टी CM केशव मौर्य ने टिकैत को दिया जवाब, कहा- शाहीनबाग की तरह टांय-टांय फिस्स होगा यह कथित किसान आंदोलन

केंद्र सरकार द्वारा लाये गये तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ किसान संगठन पिछले 9 महीने से दिल्ली की सीमाओं पर आंदोलन कर रहें हैं। रविवार 5 सितंबर को संयुक्त किसान मोर्चा ने यूपी के मुजफ्फरनगर में किसान महापंचायत की। इस महापंचायत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, उत्तराखंड, पश्चिमी यूपी और बिहार के किसानों ने हिस्सा लिया

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

रिपोर्ट: सत्यम दुबे

कानपुर: केंद्र सरकार द्वारा लाये गये तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ किसान संगठन पिछले 9 महीने से दिल्ली की सीमाओं पर आंदोलन कर रहें हैं। रविवार 5 सितंबर को संयुक्त किसान मोर्चा ने यूपी के मुजफ्फरनगर में किसान महापंचायत की। इस महापंचायत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, उत्तराखंड, पश्चिमी यूपी और बिहार के किसानों ने हिस्सा लिया। किसान नेताओं ने केंद्र सरकार, और यूपी की राज्य सरकार पर जमकर निशाना साधा।

रविवार को हुए किसान महापंचायत पर यूपी के उप-मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या ने कहा कि आंदोलन में किसान नहीं बल्कि सपा, बसपा और कांग्रेस के लोग हैं, जैसे शाहीनबाग में आंदोलन टांय-टांय फिस्स हुआ था, वैसा ही हाल इस किसान आंदोलन का भी होगा।

आपको बता दें कि केशव मौर्या ने कानपुर में भाजपा के प्रबुद्ध वर्ग सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे।    उन्होने रहा कि अभी चुनाव होने हैं, पता लग जाएगा कि जनता किसके साथ है। उपमुख्यमंत्री ने कहा, ”ये लोग खुद को किसान बताने की कोशिश कर रहे हैं। मैं सपा, बसपा, कांग्रेस से कहूंगा कि चुनाव आने वाले हैं, जनता की अदालत में आएं। भारतीय जनता पार्टी 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव में 300 से ज्यादा सीटें जीतेगी। पता चल जाएगा जनता किसके साथ है। विरोधियों को जैसे शाहीनबाग का नाटक करने से कोई कामयाबी नहीं मिली, वैसे ही किसान आंदोलन का नाटक करके से भी नहीं मिलेगी।”

केशव मौर्या ने कहा, ”हम नहीं कहते कि हमने सब काम खत्म कर दिया है। लेकिन सरकारी नौकरियों में भ्रष्टाचार खत्म किया है। भ्रष्टाचार की लड़ाई लड़ने में बाधाएं आती थीं। हमने इसे दूर किया है। अब 2022 के चुनाव आ रहे हैं। विपक्षी एक होने लगे हैं। लेकिन तब भी हम उन्हें पछाड़ देंगे। विपक्षी पार्टियों के कुछ नेता तालिबानीकरण का समर्थन करते हैं। भारत मे रहकर तालिबान की भाषा बर्दाश्त नहीं की जा सकती। जनता के आशीर्वाद एवं अपार जनसमर्थन से 2022 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में हमारी पार्टी फिर से 300 से अधिक सीटों पर कमल खिलाएगी।”

आपको बता दें कि दूसरी ओर मुजफ्फरनगर में रविवार को तीन कृषि कानूनों के विरोध में हुई किसान महापंचायत में राकेश टिकैत ने केंद्र की मोदी और उत्तर प्रदेश की योगी सरकार पर जमकर निशाना साधा। टिकैत ने कहा कि संयुक्त किसान मोर्चा यूपी में ऐसी 18 महापंचायतों का आयोजन करेगा। भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता ने कहा, ”अभी तक गन्ने का मूल्य एक रुपया भी नहीं बढ़ाया गया। क्या योगी सरकार कमजोर है,  जो एक रुपया नहीं बढ़ा सकती। उत्तर प्रदेश की जमीन पर दंगा करवाने वालों को नहीं रहने देंगे। हम किसी भी कीमत पर आंदोलन खत्म नहीं करेंगे। प्रधानमंत्री ने कहा था 2022 तक फसल के दाम दोगुने करेंगे, अब 3 महीने बचे हैं, हम पूरे देश में इसका प्रचार करेंगे।”

 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...