1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. ‘समाजवादी परफ्यूम’ पर कसा आयकर विभाग का शिकंजा, इत्र कारोबारी के ठिकानों पर हुई छापेमारी; जानें कितनी है अखिलेश और डिंपल की संपत्ति

‘समाजवादी परफ्यूम’ पर कसा आयकर विभाग का शिकंजा, इत्र कारोबारी के ठिकानों पर हुई छापेमारी; जानें कितनी है अखिलेश और डिंपल की संपत्ति

Income Tax Department tightens its grip on 'Samajwadi Perfume', raids on perfume dealer's premises; समाजवादी कार्यकर्ताओं के बाद समाजवादी परफ्यूम पर ED का शिकंजा। उत्तर प्रदेश में होने है विधानसभा चुनाव। जानिए कितनी है सपा मुखिया अखिलेश यादव और डिंपल यादव की संपत्ति।

By Amit ranjan 
Updated Date

नई दिल्ली : उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) विधानसभा चुनाव (Assembly Election) से पहले ईडी लगातार समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) से जुड़े नेताओं पर छापेमारी कर रही है। इस दौरान ईडी यानी आयकर विभाग (Income Tax Department) को कई सबूत भी हाथ लगे। आपको बता दें कि इस कार्रवाई के बाद  ईडी रूकने का नाम नहीं ले रहा और लगातार अपना डंडा चला रही है। बीते सप्ताह सपा के प्रवक्ता व राष्ट्रीय सचिव राजीव राय (SP Leader Rajiv rai) समेत कई नेताओं के घर हुई आयकर विभाग की छापेमारी (Income tax raid) के बाद अब गुरुवार को यूपी के कन्नौज और कानपुर में इत्र कारोबारी के ठिकानों पर एक साथ छापेमारी (Raid) की गई। मिली जानकारी के अनुसार, गुरुवार सुबह सपा नेता पंपी जैन के करीबी इत्र कारोबारी पीयूष जैन के घर, फैक्ट्री, आफिस, कोल्ड स्टोर व पेट्रोल पंप पर आयकर विभाग ने छापे मारे।

छापेमारी के दौरान हुआ 150 करोड़ की टैक्स चोरी का खुलासा

सूत्रों ने बताया कि गुरुवार सुबह सपा नेता पंपी जैन के करीबी इत्र कारोबारी पीयूष जैन के घर, फैक्ट्री, आफिस, कोल्ड स्टोर व पेट्रोल पंप पर आयकर विभाग ने छापे मारे। आयकर अधिकारियों ने उनके मुंबई और गुजरात स्थित प्रतष्ठिानों पर भी कार्रवाई की है। अधिकारियों के मुताबिक, करीब 150 करोड़ रुपये की कर चोरी का मामला सामने आ रहा है। यह कर अपवंचना मुख्य रूप से मुखौटा कंपनियों के जरिए की गई है।

नोट गिनने की मशीन साथ लेकर पहुंची आयकर विभाग की टीम

आपको बता दें कि आनंदपुरी निवासी पीयूष जैन मूलरूप से कन्नौज (Kannauj) के छिपत्ती के रहने वाले हैं। उनका वहां घर, इत्र की फैक्ट्री, कोल्ड स्टोर, पेट्रोल पंप भी है। जिस मोहल्ले में वह रहते हैं, वहीं सपा नेता पंपी जैन का भी घर है। पीयूष जैन का मुंबई में भी घर, हेड आफिस और शोरूम है। उनकी कंपनियां भी मुंबई में ही पंजीकृत हैं। उनके खिलाफ छापे की कार्रवाई सुबह 11 बजे एक साथ सभी जगह शुरू हुई। छापे के लिए मुंबई की टीम आई थी। मुंबई की टीम के नेतृत्व में ही कानपुर में जूही क्षेत्र के आनंदपुरी स्थित इत्र कारोबारी के आवास पर आयकर अधिकारियों ने छापे मारे। छापे में आयकर की टीम नोट गिनने वाली मशीन लेकर अपने साथ आनंदपुरी पहुंची।

हाल ही में लांच हुई थी समाजवादी परफ्यूम

अधिकारियों के मुताबिक पीयूष जैन की करीब 40 कंपनियां हैं, जिनमें दो मिडिल ईस्ट में भी हैं। इनका इत्र कन्नौज में बनता है, वहीं मुंबई में इनका शोरूम है जहां से इत्र को पूरे देश में बेचा जाता है। साथ ही विदेश में निर्यात भी किया जाता है। पीयूष जैन का कन्नौज में इत्र का बड़ा कारोबार है। पीयूष जैन के परिवार के पम्पी जैन समाजवादी पार्टी की नेता है और उन्हें सपा का फाइनेंसर भी माना जाता है। हाल ही में जैन परिवार ने ‘समाजवादी परफ्यूम’ लॉन्चिंग की थी, तभी से वह सरकार के निशाने पर थे। छापेमारी में आयकर विभाग को इत्र व्यापारी पीयूष जैन के घर छापे में कैश के अलावा अहम दस्तावेज भी बरामद किए हैं। परिवार के सभी सदस्यों को घर पर रखा गया है। किसी को भी बाहर जाने की इजाजत नहीं है। परिजनों से दस्तावेजों के बारे में पूछताछ की जा रही है।

रात तक मशीनों ने गिने नोट

कारोबारी के घर पर मिली रकम का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि विभाग को नोट गिनने के लिए चार मशीनें मंगवानी पड़ीं। यह मशीनें देर रात तक उनके आवास पर ही थीं। जांच में यह भी सामने आया है कि कारोबारी की दो कंपनियां अरब देशों में हैं। छह कंपनियां देश में पंजीकृत हैं। कानपुर में आवास और कन्नौज में इत्र का कारोबार होने के बाद भी कारोबार का मुख्य सेंटर मुंबई है।

सबसे पहले सपा के इन नेताओं पर ईडी की छापेमारी

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के करीबी पार्टी के नेताओं तथा कारोबारियों के आवास तथा प्रतिष्ठानों पर शनिवार को आयकर विभाग ने बड़ी कार्रवाई की थी। इसमें मनोज यादव तथा जैनेन्द्र यादव के साथ ही पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव व प्रवक्ता राजीव राय के ठिकानों पर छापेमारी हुई। इनके साथ ही राजीव राय के मऊ तथा लखनऊ के आवास और कार्यालय पर भी ईडी ने छापेमारी की। इस दौरान तकरीबन छापेमारी में 800 करोड़ रुपये के घोटाले और टैक्स चोरी का पता चला है।

छापेमारी के दौरान मिले 86 करोड़ की अघोषित आय के प्रमाण

आयकर विभाग को छापेमारी के दौरान 86 करोड़ की अघोषित आय के प्रमाण मिले हैं। वहीं, 68 करोड़ की अघोषित आय को कुबूल किया गया है। हालांकि अधिकारियों को 150 करोड़ की रकम के इस्तेमाल के कागज़ नहीं मिले हैं। एक अन्य ठिकाने से विभाग को 12 करोड़ का अघोषित निवेश और 3.5 करोड़ की बेनामी संपत्ति मिली है।

कोलकाता के ठिकानों से 40 करोड़ के बोगस कैपिटल शेयर भी मिले

वहीं, विभाग को कोलकाता के ठिकानों से 40 करोड़ के बोगस कैपिटल शेयर भी मिले हैं। छापेमारी के दौरान पता चला कि 154 करोड़ रुपए का असुरक्षित लोन फ़र्ज़ी कम्पनियों के नाम से दिखाए गए। छापेमारी के दौरान कुछ ठिकानों से 1.12 करोड़ रुपए का कैश भी बरामद किया गया है। कर्नाटक की राजधानी बैंगलुरू के एक ठिकाने से फेमा का उल्लंघन कर 80 लाख का दान के प्रमाण मिले हैं। वहीं, 10 करोड़ की कैपिटेशन फीस के प्रमाण भी मिले हैं।

अखिलेश और डिंपल के नाम पर कितनी है संपत्ति

अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने साल 2019 में लोकसभा चुनाव के दौरान दिए हलफनामे में बताया था कि उनके पास 3,91,040 रुपये हैं और उनकी पत्नी डिंपल यादव (Dimple Yadav)  के पास 4,03,743 रुपये हैं। अगर अखिलेश यादव के बैंक बैलेंस की बात करें उन्होंने हलफनामे में 7 सेविंग अकाउंट और दो एफडी अकाउंट का ब्यौरा दिया है। इसमें एफडी के रुप में करीब 7 लाख 3 हजार रुपये जमा हैं। वहीं, 6 सेविंग अकाउंट की बात करें तो इन खातों में करीब 5 करोड़ 23 लाख रुपये हैं।

वहीं, उनकी पत्नी डिंपल के एफडी अकाउंट में करीब 57 लाख रुपये हैं। इसके अलावा डिंपल के 7 बैंक अकाउंट हैं, जिनमें करीब 2 करोड़ 16 लाख रुपये हैं। अखिलेश ने एलआईसी और अन्य पॉलिसी के माध्यम से 30 लाख रुपये निवेश कर रखे हैं, जबकि डिंपल यादव ने करीब 25 लाख रुपये निवेश कर रखे हैं। इसके अलावा भी अखिलेश यादव की कई देनदारी हैं, जो उनकी संपत्ति में ही शामिल है।

कितना है सोना

अखिलेश यादव ने सोने को लेकर कोई ब्यौरा नहीं दिया है, जबकि उनके पास 76 हजार का फोन, 17 हजार का फर्नीचर और करीब 5 लाख रुपये की एक्सरसाइज की मशीन है। वहीं, डिंपल यादव के पास करीब 60 लाख का सोना, मोती है. वहीं, एक लाख 25 रुपये के कम्प्यूटर हैं।

कितनी है जमीन, घर?

अगर चल संपत्ति के अलावा जमीन, भूमि या घर की बात करें तो अखिलेश यादव के पास सबकुछ मिलाकर करीब 16 करोड़ 90 लाख रुपये की प्रोपर्टी है, जबकि डिंपल यादव के नाम 9 करोड़ 30 लाख रुपये की संपत्ति है।

कुल कितनी है संपत्ति?

अगर अखिलेश यादव और डिंपल यादव की चल-अचल संपत्ति की बात करें तो कैश पैसों के रुप में अखिलेश के पास 7,90,01,116 रुपये हैं जबकि डिंपल के पास 3,68,16,108 रुपये हैं। वहीं, अखिलेश के पास 16 करोड़ 90 लाख रुपये की जमीने हैं और डिंपल यादव के नाम 9 करोड़ 30 लाख रुपये की जमीन हैं। ऐसे में अखिलेश यादव की कुल संपत्ति करीब 24 करोड़ रुपये है। वहीं, डिंपल के नाम 12 करोड़ रुपये की संपत्ति है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...