Home देश लौट आया लॉकडाउन, बढ़ते कोरोना केस को लेकर सबसे पहले इस राज्य के राजधानी में लगा संपूर्ण लॉकडाउन

लौट आया लॉकडाउन, बढ़ते कोरोना केस को लेकर सबसे पहले इस राज्य के राजधानी में लगा संपूर्ण लॉकडाउन

2 second read
0
61

नई दिल्ली : लगातार बढ़ते कोरोना के आंकड़े राज्य सरकार एवं केंद्र सरकार के लिए सरदर्द बनता जा रहा है। जिसे लेकर जहां अभी तक दिल्ली, मुंबई, पंजाब समेत 6 राज्यों ने नाइट कर्फ्यू लगाया हैं तो वहीं अब छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में संपूर्ण लॉकडाउन लगा दिया गया है। वो भी दिन दूर नहीं जब एक बार फिर पूरा देश कोरोना के जाल में फंसता नजर आयेगा, जिससे बचने के लिए सरकार को फिर लॉकडाउन लगाना होगा। इसलिए RNI News आपसे अपील करता हैं की आप जरूर मास्क लगाने के साथ ही एक निश्चित अंतराल पर हाथों को धोये। वहीं सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन का पालन करें।

आपको बता दें कि कोरोना के इसी बढ़ते मामले को लेकर छत्तीसगढ़ के रायपुर में लॉकडाउन लगाने का फैसला लिया गया है। आदेश में कहा गया है कि रायपुर जिला अन्तर्गत संपूर्ण क्षेत्र को 9 अप्रैल शाम छह बजे से 19 अप्रैल सुबह छह बजे तक कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया है। इस दौरान जिले की सीमाएं सील रहेगी।

आदेश में कहा गया है 11 दिनों में मेडिकल दुकानों को खोलने की अनुमति होगी। दुध सुबह में छह बजे से आठ बजे तक और शाम में पांच बजे से साढ़े छह बजे तक बेचे जा सकते हैं। दूध दुकान के सामने सामाजिक दूरी का ध्यान रखना होगा। लॉकडाउन के दौरान सभी धार्मिक, सांस्कृतिक और पर्यटन स्थल बंद रहेंगे।

अगर हम बात करें तो छत्तीसगढ़ में कोरोना केसों की तो, मंगलवार को छत्तीसगढ़ में 9,921 लोग कोरोना से संक्रमित हुए थे और 53 लोगों की मौत हुई थी। राज्य में पहली बार एक दिन में इतनी संख्या में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले सामने आए थे। केवल रायपुर जिले में सबसे अधिक 76,427 लोगों में कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि हुई थी। जिले में अब तक कोरोना वायरस संक्रमित 1001 लोगों की मौत हुई है।

बता दें कि आज ही मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि राज्य में संक्रमण की दर और रोज हो रही मौतें चिंताजनक है। उन्होंने लोगों से अपील की कि वे अनावश्यक रूप से घरों से न निकलें और कोविड दिशा-निर्देशों का कड़ाई से पालन करें। बघेल ने कहा कि पिछले वर्ष जिस तरह से समाज के सभी तबकों के सहयोग से कोरोना संक्रमण को रोकने में कामयाबी मिली थी, उसी तरह के सक्रिय सहयोग की अभी जरूरत है।

Load More In देश
Comments are closed.