1. हिन्दी समाचार
  2. कृषि मंत्र
  3. औषधीय पौधों की खेती से 3 महीने में कमाएं 3 लाख रुपये

औषधीय पौधों की खेती से 3 महीने में कमाएं 3 लाख रुपये

आज हम आपको औषधीय पौधों के बारे में बताएंगे, जिससे आप लाखों की कमाई कर सकते हैं और इस बिजनेस को शुरु करने के लिए आपको सिर्फ 15 हजार रुपये की जरूरत होगी इन 15000 रुपये के जरिए आप आराम से 3 लाख तक की कमाई कर सकते हैं ।

By Prity Singh 
Updated Date

तुलसी का पौधा

भारतीय बाजार में औषधीय पौधों की काफी मांग है। विशेष रूप से महामारी के दौरान, लोग इन पौधों के स्वास्थ्य लाभों के बारे में अधिक जागरूक हो गए हैं। औषधीय पौधों की खेती पहले की तरह काफी विकसित नहीं हो रही है। इस अनोखे कृषि व्यवसाय में कम निवेश की आवश्यकता होती है और लंबी अवधि की कमाई सुनिश्चित होती है। औषधीय पौधों की खेती के लिए न तो बड़े खेत की जरूरत होती है और न ही निवेश की। कई कंपनियां अब औषधीय पौधों की खेती के लिए अनुबंध कर रही हैं, जिनमें से कुछ पर हमने लेख में आगे चर्चा की है। इनकी खेती शुरू करने के लिए आपको केवल कुछ हजार रुपये खर्च करने होंगे, लेकिन आमदनी लाखों में है।

सबसे उपयोगी औषधीय पौधे:

अधिकांश जड़ी-बूटियाँ जैसे तुलसी और एलोवेरा आदि बहुत ही कम समय में तैयार हो जाती हैं। इनमें से कुछ पौधे छोटे गमलों में भी उगाए जा सकते हैं। आजकल, देश में कई दवा कंपनियां फसलों की खरीद के लिए ठेके देती हैं, जिससे राजस्व सुनिश्चित होता हैं।

3 महीने में कमाएं 3 लाख

तुलसी आमतौर पर धार्मिक मामलों से जुड़ी होती है, लेकिन तुलसी की खेती औषधीय गुणों से की जा सकती है। तुलसी के कई प्रकार हैं, जिनमें यूजेनॉल और मिथाइल सिनामेट शामिल हैं। इनका उपयोग कैंसर जैसी गंभीर बीमारी की दवा बनाने के लिए किया जाता है। 1 हेक्टेयर जमीन पर तुलसी की खेती करने में सिर्फ 15,000 रुपये का खर्च आता है, और आप सिर्फ 3 महीने में 3 लाख रुपये तक कमा सकते हैं।

अनुबंध खेती की पेशकश करने वाली कंपनियां:

तुलसी की खेती पतंजलि, डाबर, वैद्यनाथ आदि आयुर्वेदिक औषधियां बनाने वाली कंपनियों द्वारा खेती भी की जाती है जो अपने माध्यम से फसलें खरीदते हैं। तुलसी के बीज और तेल का बड़ा बाजार है। तेल और तुलसी के बीज रोज नए रेट पर बिक रहे हैं।

औषधीय पौधों की खेती का प्रशिक्षण:

औषधीय पौधों की खेती के लिए जरूरी है कि आपके पास अच्छी ट्रेनिंग हो। केंद्रीय औषधीय और सुगंधित पौधे (सीआईएमएपी) अब इन पौधों की खेती में प्रशिक्षण प्रदान करता है। CIMAP के माध्यम से, फार्मेसी सीयूटिकल टिक्ल कंपनियों का भी आपके साथ अनुबंध होता है, इसलिए आपको इधर-उधर जाने की आवश्यकता नहीं है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...