1. हिन्दी समाचार
  2. जरूर पढ़े
  3. कांग्रेस के नाम खुला ख़त : कांग्रेस को फिर से एक इंदिरा गाँधी की जरुरत है

कांग्रेस के नाम खुला ख़त : कांग्रेस को फिर से एक इंदिरा गाँधी की जरुरत है

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

Article By –

डॉक्टर मंजू डागर चौधरी { International journalist: ireland}

आयरन लेडी इंदिरा गाँधी जी एक साहसी महिला थी। उन्होंने अच्छा भी किया और गलत भी लेकिन उनकी सबसे बड़ी खूबी थी उन्होंने दोनों को ही स्वीकार किया। उन्होंने भिंडरावाला को बनाया और उसको खत्म भी उन्होंने ही किया। ये साहस था उनका वो जानती थी कि उनकी हत्या होगी और उन्होंने ये स्वीकार भी किया। देशहित में उन्होंने कहीं भी समझौता नहीं किया था।
कांग्रेस का सबसे बुरा काम पाकिस्तान को बनवाना रहा और सबसे अच्छा काम बांग्लादेश को बनवाना रहा ये अलग बात है कि आज वो बांग्लादेश भी हमारा अहसान नहीं मानता जैसे की पाकिस्तान नहीं मानता क्योंकि मुस्लिमों को अपने धर्म पर एक देश चाहिए था और वो कांग्रेस ने उन्हें दिया भी। अहिँसा का सन्देश देने वाले देश का ये काला पार्टीशन का दिन दुनिया के इतिहास में सबसे अधिक रक्तरंजित पार्टीशन माना जाता है। कांग्रेस राज में ही कभी श्रीलंका तो कभी नेपाल और अफ़ग़ानिस्तान में हमारी मौजूदगी घातक ही रही है भारत के लिए तो।
कांग्रेस अध्यक्ष को अब खुल कर सोचना होगा कि राजनीति और राजनीतिक दल में कहां -कहां खामियां हैं। क्यों लगातार कांग्रेस का जनाधार दिन प्रतिदिन घटता जा रहा हैं। भारत को अपना देश समझिये न कि इसकी रजिस्ट्री अपने नाम पर्मानेंट रखे रखने का वहम पालिए। सेक्युलर का घिनौना खेल खेलना बंद कीजिये नहीं तो कांग्रेस का नाम लेने वाला भी कुछ सालों में नहीं बचेगा जैसे भारत आजतक अपने गरिमामय गौरव को वापिस पाने के लिए तरस रहा है।
पहले भी आप देश के दो हिस्से करवाने का ख़िताब अपने नाम करवा चुकी हैं अब तुस्टीकरण की राजनीति पर लगाम लगाइए। इस देश में केवल मुस्लिम ही नहीं रहते और भी धर्मों के लोग रहते हैं उनको भी उनका हक़ दीजिये। आपने मुस्लिम वोट बैंक को तो अपनी जागीर ही समझ रखा है जबकि मुस्लिम लीग की तरह कई मुस्लिम राजनीतिक दल समाज में अपनी कटटरता की पकड़ बना चुके हैं आपका ही साथ पा कर। अब और कितने पाकिस्तान भारत के भीतर बनवाएगी आप ?
सबसे पहले तो उनको अपनी पार्टी के उन सभी नेताओं को बहार का रास्ता दिखाना होगा जो अमर बेल खुद हैं और कांग्रेस को जड़ से सूखा रहें हैं। सामने राहुल गाँधी को प्रधानमंत्री का चेहरा दिखा कर भीतर ही भीतर खुद प्रधानमंत्री बनने का सपना पालते हुए राहुल की ही जड़े काट रहें हैं। मोतीलाल वोहरा ,दिग्विजय सिंह , गुलाम नबी आज़ाद , आंनद शर्मा , कपिल सिबल , अहमद पटेल , शशि थरूर , अधिरंजन चौधरी जैसी अमर बेलों से जब तक छुटकारा नहीं पाएंगी तब तक काल के मुँह में जाने से कांग्रेस को कोई नहीं रोक सकता। दूसरा शरद पवार ,उद्धव ठाकरे जैसे मगरमछों से भी दूर होना होगा जो महाराष्ट्र में डी कंपनी की ब्लैकमॉनी से फ़िल्म उद्योग ही नहीं पुरे महाराष्ट्र पर राज कर रहें हैं।
भिंडरावाला को आपने पाला , 1984 सिखों का कत्लेआम हुआ , पंजाब 10 साल तक आतंकवाद को झेलता रहा और आज देश खालिस्तान के नाम पर बहार से आने वाले फंडिंग से फिर खोखला हो रहा हैं। फ़ारुक़ अब्दुला और महबूबा मुफ़्ती ,गिलानी जैसे को आपने पाला और कश्मीर में 76 सालों से आतंक का रास्ता अपना कर युवा लाशों में तब्दील हो रहें हैं। कितने ही हिन्दू -मुस्लिम दंगे ,आरक्षण जैसा आर्टिकल और एक ही समुदाय का माइनॉरिटी सेल की अहमियत बाकि दूसरे समुदायों को कोई माइनॉरिटी हक़ न देना ये सब सियासी दांव -पेच का दौर खत्म कीजिये अब। सविंधान की दुहाई बार -बार देना बंद कीजिये जिसमें सब को एक नज़र से देखा और लिखा तो नहीं गया लेकिन राग अलापना। सविंधान खुद ही डिवाइड एंड रूल को सोच कर लिखा गया और आज तक यही होता आया है।
सभी राज्यों में छेत्रिय राजनीतिक दलों का पनपना और विस्तार पाना आपकी ही राजनीतिक बिसात का मोहरा थे लेकिन आज वो घातक सिद्ध हो रहें हैं राष्ट्रीय सुरक्षा को। नार्थ -ईस्ट राज्यों को स्पेशल दर्जा आपने दिया। वहां अलगांववाद के झंडे को आपने केंद्र सरकार में रहते हुए रूपये से मदद करते रहें इसलिए आजतक वो भारत का हिस्सा मन से नहीं बने केवल सवैंधानिक जुड़े हैं। सारे दक्षिणी राज्य स्वायत्ता की लालसा लिए बैठे हैं क्योंकि मुस्लिम और ईसाई मिशिनरी ने वहां सब कुछ बदल दिया है । जहां से असली भारत का आरम्भ माना जाता था वहां आज असली भारत गिना -चुना बैठा हैं।
श्रीमती गाँधी जी राजनितिक धरातल पर अपनी पकड़ मजबूत कीजिये न कि इन मगरमच्छी अमर बेल सरीख़े आपके नेताओं पर जो कांग्रेस को भीतर ही भीतर खा रहें हैं। अपने युवा कांग्रेस के चेहरों को आगे लाइए और अपने राजनीतिक दल को मजबूत कीजिये न कि इन लम्पटों को जो न पैसा छोड़ते हैं और न ही महिलाएं। आपको पुत्र मोह से भी बाहर निकलना चाहिए और अपनी पार्टी के कर्मठ युवा चेहरों को देश हित में आगे लाइए ताकि सही तरह से कांग्रेस देश में पकड़ मजबूत करे। देश हित में आपकी पार्टी के सभी युवा नेता आपके पुत्र समान ही हैं उनको मौका दीजिये। मेरे कम लिखे को ज्यादा समझिये गा जरूर।

Copyright & Dr. Manju Dagar Chaudhary ( International Journalist) Ireland

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...