Home Madhya Pradesh विधायक के पति ने किया सरेंडर, कहा-मैंने पत्नी की बात मानी, गलत हूं तो फांसी पर लटका दो..

विधायक के पति ने किया सरेंडर, कहा-मैंने पत्नी की बात मानी, गलत हूं तो फांसी पर लटका दो..

2 second read
0
78

दमोह: कांग्रेस नेता देवेंद्र चौरसिया हत्याकांड में फरार चल रहे दमोह के पथरिया से BSP विधायक रामबाई के पति गोविंद सिंह परिहार को एसटीएफ ने गिरफ्तार कर लिया गया है। हालांकि इससे पहले गोविंद सिंह ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो पोस्ट कहा कि मैंने अपनी पत्नी और विधायक की अपील पर खुद को पुलिस के सामने सरेंडर किया है। लेकिन पुलिस का कहना है कि हमने उसे हिरासत में लिया है।

दरअसल, 2 महीने पहले हटा अदालत ने विधायक रामबाई के पति पर एफआइआर दर्ज कर उसे आरोपी माना था और उसके बाद से ही गोविंद सिंह फरार चल रहा था। उसे पकड़ने के लिए पुलिस ने 50 हजार रुपए का इनाम भी घोषित किया था। इतना ही नहीं इस मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट भी मध्य प्रदेश सरकार और कानून व्यवस्था को लेकर फटकार लगा चुकी हैं। जिसके बाद पुलिस पर दबाव बढ़ा और उसे गिरफ्तार करने के लिए पिछले कुछ दिन से लगातार छापा मारी कर रही थी।सूत्रों के मुताबिक, वह पिछले 3 दिन से ग्वालियर-भिंड में घूम रहा था।

बत दें कि आरोपी गोविंद सिंह को ग्वालियर STF ने उसे भिंड के बस स्टैंड से गिरफ्तार किया है। पुलिस सोमवार को उसे भोपाल अदालत में पेश कर सकती है। फिलहाल पुलिस इसको कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है। गोविंद के भिंड में सरेंडर करने के पीछे पथरिया और भिंड का बसपा कनेक्शन सामने आ रहा है। दोनों ही जगह बसपा के विधायक हैं। भिंड में बसपा से संजीव सिंह कुशवाह विधायक हैं।

विधायक रामबाई ने भी एक वीडियो शेयर किया है, जिसमें वह कह रही हैं कि मेरे पति गोविंद सिंह ने सरेंडर कर दिया है। अभी वह ग्वालियर में हैं। पुलिस ने उन्हें कुछ देर में दमोह लेकर पहुंचेगी। बता दें कि कुछ  दिन पहले भी विधायक ने पति से अपील करते हुए कहा था कि ठाकुर साहब आप सरेंडर कर दीजिए। हम गलत नहीं हैं अदालत हमें न्याय देगी।

गोविंद सिंह ने वीडियो जारी कर कहा कि उसका या उसके किसी परिवार के सदस्य का देवेंद्र चौरसिया हत्याकांड का से कोई लेना देना नहीं। मुझे इस बारे में कोई जानकारी नहीं है। इस मामले में राजनैतिक षड्यंत्र के तहत मुझे फंसाया गया है। मुझे न्याय नहीं मिल रहा है, मैं माननीय कोर्ट, हाई कोर्ट, सुप्रीम कोर्ट से निवेदन करना चाहता हूं मुझे इंसाफ दे, साथ ही दोषी पाया जाता हूं तो मुझे चौराहे पर फांसी के फंदे पर लटका दो।

सूत्रों के मुताबिक जानकारी में सामने आया है कि हत्याकांड में आरोपी बनाए गए गोविंद सिंह पुलिस से बचने के लिए इटावा, औरैया और भिंड में रह रहे थे। सरेंडर किए जाने से पहले वह एक राजनेता के यहां ठहरे हुए थे। कोर्ट की फटकार के बाद पुलिस और राज्य की सरकार, BSP विधायक पर पति को सरेंडर कराने का दबाव बना रही थी। वहीं आरोपी का भी छिपना भी भारी पड़ रहा था। प्रदेश में अन्य जिलें में छिपाना विधायक रामबाई को मुश्किल हो रहा था। इसलिए एक योजना के तहत विधायक ने  अपने पति को भिंड में सरेंडर कराना उचित समझा।

Load More In Madhya Pradesh
Comments are closed.