Home उत्तर प्रदेश सीएम योगी का ग्रेटर नोएडा को लेकर बड़ा ऐलान, पढ़िए क्या है भविष्य का प्लान

सीएम योगी का ग्रेटर नोएडा को लेकर बड़ा ऐलान, पढ़िए क्या है भविष्य का प्लान

5 second read
0
9
Chief Minister Yogi Adityanath reviewed the export and marketing of mangoes
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने नोएडा, ग्रेटर नोएडा और यमुना एक्सप्रेस वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण से जुड़ा बड़ा ऐलान किया है। उन्होने कहा  कि ग्रेटर नोएडा क्षेत्र को उत्तरी भारत के सबसे बड़े लॉजिस्टिक हब के रूप में विकसित किया जाएगा।
इससे ग्रेटर नोएडा शहर को हजारों करोड़ रूपये का निवेश मिलेगा। लाखों युवाओं के लिए नौकरी और कारोबार का रास्ता खुल जाएगा। सीएम  ने कहा कि उत्तर प्रदेश को ‘औद्योगिक प्रदेश’ बनाने का अभियान शुरू हो गया है।
राज्य सरकार प्रदेश में निवेश का उत्तम वातावरण सृजित करने के लिए शुरू से ही प्रयासरत रही है। तीन सालों में बहुत कुछ बदला है, बदलाव की यह प्रक्रिया जारी है।
एक सरकारी प्रवक्ता के मुताबिक सोमवार को उच्च स्तरीय प्राधिकृत समिति (प्रदेश स्तरीय उद्योग बंधु) की बैठक में मुख्यमंत्री ने यह बात कही। फिक्की, एसोचैम, सीआईआई, लघु उद्योग भारती और आईआईए जैसे औद्योगिक संगठनों के प्रमुखों की उपस्थिति में मुख्यमंत्री ने ‘उत्तर प्रदेश को निवेश के अनुकूल प्रदेश बनाने के लिए उठाये गए कदमों की विस्तार से जानकारी दी।
मुख्यमंत्री ने कहा, ”इलेक्ट्रॉनिक्स सिस्टम डिजाइन मैन्युफैक्चरिंग, आईटी, खाद्य प्रसंस्करण, डेयरी, वस्त्रोद्योग, पर्यटन और फिल्म आदि क्षेत्रों में निवेश के अवसरों के अतिरिक्त सौर ऊर्जा, जैव ईंधन और नागरिक उड्डयन में उपलब्ध असीम सम्भावनाओं को प्रोत्साहित किया जा रहा है।
उन्होंने कहा, ”दादरी में मल्टी मॉडल लॉजिस्टिक पार्क और बोडाकी में ट्रांसपोर्ट हब, ग्रेटर नोएडा क्षेत्र को उत्तरी भारत के सबसे बड़े लॉजिस्टिक हब के रूप में स्थापित किए जाएंगे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में विकसित की जा रही ‘डिफेंस इंडस्ट्रियल कॉरिडोर एक महत्वाकांक्षी परियोजना है। इससे ‘मेक इन इंडिया डिफेंस’ के लिए राज्य में विद्यमान विशाल एमएसएमई आधार को लाभ मिलेगा।
डिफेंस इंडस्ट्रियल कॉरिडोर में 50,000 करोड़ रुपये के निवेश की सम्भावना है। नए निवेशकों के लिए उत्तर प्रदेश में 20,000 एकड़ का एक ‘भूमि बैंक तैयार है। उन्होंने कहा, ”राज्य सरकार एक व्यापक भूमि बैंक नीति की योजना बना रही है, जिसमें लैंड लीजिंग, लैंड पूलिंग, एक्सप्रेस-वे के किनारे तेजी से अधिग्रहण, अतिरिक्त भूमि की सब-लीजिंग आदि विषय सम्मिलित होंगे।
बयान के मुताबिक मुख्यमंत्री ने कहा कि गैर-आईटी आधारित स्टार्ट-अप्स को भी प्रोत्साहित करने के लिए स्टार्ट-अप नीति के दायरे का विस्तार करते हुए उ.प्र.स्टार्ट-अप नीति-2020 तथा उ.प्र. इलेक्ट्रॉनिक्स मैन्युफक्चरिंग नीति-2020 जैसी नई नीतियों की घोषणा भी की गई है। इसके अलावा, डेटा सेंटर नीति, फार्मा और नई खाद्य प्रसंस्करण नीति भी शीघ्र घोषित की जाने वाली हैं।
Load More In उत्तर प्रदेश
Comments are closed.