1. हिन्दी समाचार
  2. योग और स्वास्थ्य
  3. क्या आप भी है कब्ज से परेशान ? संपूर्ण पाचन के लिए आजमाएं यह योगासन

क्या आप भी है कब्ज से परेशान ? संपूर्ण पाचन के लिए आजमाएं यह योगासन

कब्ज आम पाचन समस्याओं में से एक है जो लगभग सभी आयु वर्ग के लोगों को परेशान करती है। यहा हम कुछ ऐसे योगासन के बारे में बात कर रहे है जो कब्ज से परेशान लोगों के लिए बेहद फायदेमंद हो सकते है।

By Prity Singh 
Updated Date

कब्ज आम पाचन समस्याओं में से एक है जो लगभग सभी आयु वर्ग के लोगों को परेशान करती है। यह वास्तव में आपकी दैनिक उत्पादकता में हस्तक्षेप कर सकता है क्योंकि यह सिरदर्द को बढ़ा सकता है और आपके मूड को प्रभावित कर सकता है। कई ऐसे कारक भी हैं जो आपके कब्ज का कारण हो सकते हैं । अध्ययनों से पता चलता है कि कब्ज का मुख कारण अपने आहार का सही ढंग से नहीं लेना है। तनाव, या मल त्याग करने की इच्छा को अनदेखा करना भी इसका कारण हो सकता है। कब्ज के लक्षणों में मुख्य रूप से कठोर मल, मल त्याग करने के लिए दबाव, पेट दर्द और सूजन शामिल हैं। जबकि , फल, सब्जियां, नट्स जैसे आहार इसे काम करने में सहायक हो सकते हैं, लेकिन इस समस्या से निपटने के लिए शारीरिक गतिविधि भी उतनी ही महत्वपूर्ण है। यहा हम कुछ ऐसे योगासन के बारे में बात कर रहे है जो कब्ज से परेशान लोगों के लिए बेहद फायदेमंद हो सकते है।

मलासन करने की विधि

चरण 1
सबसे पहले आप आपने दोनों पैरों के बीच करीब दो फीट की दूरी रखते हुए खड़े हों। आपके दाहिने पैर का पंजा दायीं ओर और बाएं पैर का पंजा बायीं ओर मुड़ा हुआ होना चाहिए। इस अवस्था में थोड़ा झुकें, मानो आप कुर्सी पर बैठे हुए हैं।

चरण 2
आपने दोनों हाथों से प्रणाम की मुद्रा इस प्रकार बनाएं कि दोनों कोहनियां कंधे के समानांतर लगें।

चरण 3
और अब जांघों को फैलाए रखते हुए, धीरे-धीरे सांस छोड़ते हुए अपनी कमर को और नीचे लाएं और बैठने की कोशिश करें (आप चाहें तो संतुलन बनाने के लिए हाथों को प्रणाम की मुद्रा में न रखकर जमीन पर भी टिका सकते हैं)

चरण 4
इस अवस्था में सहज सांस के साथ लगभग आधे से एक मिनट तक रहें। उसके बाद सांस भरते हुए पुन: कुर्सी पोज में कुछ सेकेंड रहें, फिर सामान्य अवस्था में आ जाएं।

चरण 5
30 सेकंड से 1 मिनट तक इसी स्थिति में रहें , फिर सांस लें, घुटनों को सीधा करें और उत्तानासन में खड़े हो जाएं ।

मलासन करने के फायदे 

मलासन से अनेको फायदे है पर यहा हम आपको कुछ मुख्या फायदों के बारे में बताने जा रहे है इसे करने से आपके कूल्हों से जुड़ी परेशानी खत्म होने लगती है। आपको इससे एकाग्रता बढ़ाने में मदद मिलती है। साथ ही इसे करने से डाइजेशन भी सही रहता है और मेंटल हेल्थ भी सही बनी रहती है। यह मेटाबॉलिज्‍म को बेहतर बनाता है, यह आपके टखनों और घुटनों में लचीलापन लाता है, यह पाचन तंत्र को सक्रिय करता है, कब्‍ज की समस्‍या से राहत दिलाता है, यह पीठ के निचले भाग यानी कूल्हों और पेल्विक एरिया को एक खिंचाव देता है। यह योग हर प्रकार से हमारे लिए उपयोगी है।

मलासन से जुड़ी सावधानिया
किसी भी योग को करने से पहले हमे उसके होने वाले नुकसान के बारे में भी जान लेना चाहिए। मलासन करते समय भी ऐसी कई गलतिया है जो आपके लिए नुकसानदायक बन सकती है। कुछ लोग ये आसन करते समय कूल्हों को घुटनों से ऊपर रखते हैं। जिससे सारा वजन पैरों पर पड़ने लगता है और ये आसन आपको नुकसान करने लगता है इस लिए इस आसन को सही तरिके से करना बहुत आवश्यक है। आप संतुलन बनाये रखने के लिए अपनी एड़ी के नीचे कोई मोटी चीज रख सकते है। इससे दबाव नहीं बढ़ेगा। और आप आसानी से यह आसन कर पाएंगे।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...