Home देश महाराष्ट्र में 8 महीने बाद आज फिर से खुलेंगे सभी धार्मिक स्थल, कोरोना गाइडलाइन का करना होगा पालन

महाराष्ट्र में 8 महीने बाद आज फिर से खुलेंगे सभी धार्मिक स्थल, कोरोना गाइडलाइन का करना होगा पालन

2 second read
0
6

कोरोना संक्रमण की वजह से पिछले 8 महीने से बंद महाराष्ट्र के धार्मिक स्थल आज से श्रद्धालुओं के लिए खुल गए हैं। मंदिरों में दर्शन के लिए पहुंचे श्रद्धालुओं के लिए कोरोना की गाइडलाइंस का पालन करना अनिवार्य किया गया है।

सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन्स के अनुसार, श्रद्धालुओं को मंदिरों में मास्क पहनकर ही जाने की अनुमति दी जाएगी। इसके साथ ही सभी को सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन्स का अनिवार्य रूप से पालन करना होगा।

इसके अलावा, मंदिरों में जाने वाले श्रद्धालुओं के बीच की दूरी कम-से-कम छह फीट होनी चाहिए। 65 साल से ज्यादा उम्र के व्यक्ति, गर्भवती महिलाएं, दस साल से कम उम्र के बच्चे और वैसे व्यक्ति जिनको कोई अन्य बीमारी हो, उन्हें घर पर ही रहने को कहा गया है।

इसके साथ ही सैनिटाइज़र का भी इस्तेमाल करना अनिवार्य है। अगर सैनिटाइज़र ना हो तो साबुन या हैंडवॉश से भी हाथ धोने को कहा गया है। श्रद्धालुओं के मंदिर परिसर में आने से पहले अपने जूते-चप्पलों को बाहर छोड़कर आने जैसे गाइडलाइन्स शामिल हैं। गाइडलाइन्स का उल्लंघन करने पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

ज्ञात रहे कि महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने पिछले रविवार को कहा था कि दीवाली के बाद प्रदेश में स्कूलों और धार्मिक स्थलों को खोला जा सकता है। उद्धव ठाकरे ने कहा था कि राज्य प्रदूषण के कारण कोरेाना वायरस का प्रभाव बढ़ सकता है।

उद्धव ठाकरे ने कहा था कि मैं लोगों से अपील करता हूं कि इस बार दिवाली पर पटाखे न जलाएं। दिवाली पर मिट्टी के दीपक जलाएं। लोगों को सतर्क रहना रहना होगा, ताकि फिर से लॉकडाउन की जरूरत न पड़े।

महाराष्ट्र के मंत्री जयंत पाटिल ने कहा कि फैसला सही समय पर आया है जब कोरोना रोगियों की संख्या कम है। सभी धार्मिक स्थलों के लिए नियम समान होंगे। मास्क, सैनिटाइजर का उपयोग अनिवार्य होगा।

उन्होंने आगे कहा शारीरिक दूरी बहुत महत्वपूर्ण है। उधर, स्थानीय लोगों का कहना है कि धार्मिक स्थल महीनों से बंद हैं। हम उनके फिर से खुलने की अनुमति देने के सरकार के फैसले का स्वागत करते हैं।

मंदिरों को खोले जाने के फैसले पर बीजेपी ने इसे हिंदुत्व की जीत कहा है। वहीं शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कि ये जय पराजय का नहीं आस्था का मुद्दा है। उन्होंने कहा कि पूजास्थलों को फिर से खोलने का श्रेय लेने का कोई सवाल नहीं उठता।

मुंबई का प्रसिध्द सिद्धिविनायक मंदिर भी आज से श्रद्धालुओं के लिए खोल दिया गया है। मंदिर में कोरोना गाइडलाइन्स का पालन करने के लिए पूरा इंतजाम किया गया है। सिद्धिविनायक मंदिर में QR कोड के जरिए ही प्रवेश दिया जा रहा है।

एक दिन में अधिकतम सौ श्रद्धालु ही दर्शन कर सकते हैं। इसके लिए ऑनलाइन बुकिंग करानी होगी। बिना बुकिंग के किसी भी उन्हें दर्शन नहीं मिल पाएंगे। शिर्डी के साईं मंदिर ने प्रतिदिन 3,000 श्रद्धालुओं के दर्शन के लिए प्रबंध किए हैं।

अन्य मंदिरों और विभिन्न धर्मों के धार्मिक स्थलों पर भी इसी तरह के उपाय किए गए हैं। मंदिर खुलने के पहले दिन से श्रद्धालुओं की मंदिरों के बाहर लाइन लग गई है।

Load More In देश
Comments are closed.