Home उत्तर प्रदेश योगी सरकार का बड़ा फैसला: पत्रकारों को माना फ्रंटलाइन वर्कर, संस्थानों में कैंप लगाकर किया जायेगा वैक्सीनेशन

योगी सरकार का बड़ा फैसला: पत्रकारों को माना फ्रंटलाइन वर्कर, संस्थानों में कैंप लगाकर किया जायेगा वैक्सीनेशन

0 second read
0
13

रिपोर्ट: सत्यम दुबे

लखनऊ: कोरोना महामारी के दूसरे लहर के कहर बीच लोग के जान गंवाने का सिलसिला लगातार जारी है, महामारी से जंग जीतने के लिए यूपी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हर संभव प्रयास कर रहे हैं। सरकार की पहली प्राथमिकता है कि कोरोना की वैक्सीन सभी को लगाई जाय, इस के मद्देनजर योगी सराकार ने महामारी से जंग जीजने के लिए पत्रकारों, जजों व सरकारी अधिकारी व कर्मचारियों को फ्रंटलाइन वर्कर घोषित किया गया।

आपको बता दें कि सरकार अब उन्हें प्राथमिकता के आधार पर कोरोना का टीकाकरण करायेगी। मिली जानकारी के मुताबिक वैक्सीनेशन के लिए टीमें खुद जाकर संस्थानों में कैंप लगाएंगी और टीकाकरण किया जयेगा। सूबे में एक मई से 18 वर्ष की आयु से ऊपर के सभी लोगों को कोरोना का टीका लगाया जा रहा है। अब इसमें पत्रकारों को भी प्राथमिकता दी जाएगी।

यूपी में पहले चरण में 9 हजार से अधिक सक्रिय केस वाले जिलों लखनऊ, कानपुर, प्रयागराज, वाराणसी, गोरखपुर, बरेली और मेरठ में वैक्सीनेशन किया जा रहा है। वैक्सीनेशन के लिए जिन्होंने कोविन पोर्टल या आरोग्य सेतु एप पर पंजीकरण करा लिया है, उनके लिए शुक्रवार शाम से स्लॉट ओपन कर दिया गया।

टीकाकरण प्रभारी डॉ अजय घई ने कहा था कि 45 पार वाले लोगों का टीकाकरण पहले की तरह चलता रहेगा। पहले से बनाए गए बूथ चलते रहेंगे। 18 से 44 साल वालों के लिए अलग बूथ बनाए गए हैं। अब कुल बूथों की संख्या करीब सात हजार हो गई है।

आपको बता दें कि 30 अप्रैल तक प्रदेश में कुल एक करोड़ 23 लाख 55 हजार 555 वैक्सीन के डोज दिए जा चुके हैं। इसमें एक करोड़ एक लाख 26 हजार 798 वैक्सीन की पहली डोज और 22 लाख 28 हजार 757 दूसरी डोज शामिल है।

कोरोना की चपेट में आने के बाद जो लोग नेगेटिव हो गए हैं उन्हें 15 दिन टीके के लिए इंतजार करना पड़ेगा। इसके साथ ही जिन लोगो की आरटीपीसीआर रिपोर्ट निगेटिव है लेकिन सीटी स्कैन में कोविड के लक्षण मिले हैं। उनका भी टीकाकरण 15 दिन बाद होगा।

यूपी सरकार ने घोषणा की है कि सभी को मुफ्त कोरोना का टीका लगाया जाएगा। इसके लिए एक करोड़ डोज का ऑर्डर दोनों स्वदेशी वैक्सीन निर्माता कंपनियों को भेज दिया गया है।

 

Load More In उत्तर प्रदेश
Comments are closed.