1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. जल्द होने वाला है योगी मंत्रिमंडल विस्तार, युवा चेहरो पर फोकस, कई मंत्रियों की कुर्सी खतरे में!

जल्द होने वाला है योगी मंत्रिमंडल विस्तार, युवा चेहरो पर फोकस, कई मंत्रियों की कुर्सी खतरे में!

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

रिपोर्ट: सत्यम दुबे

लखनऊ: प्रधानमंत्री मोदी के मंत्रिमंडल विस्तार के बाद से ही चर्चाओं का बाजार गर्म हो गया है कि यूपी में मुख्यमंत्री योगी के मंत्रिमंडल का विस्तार जल्द ही किया जा सकता है। जिस प्रकार से मोदी मंत्रिमंडल में युवा चेहरों को वरीयता दी गई, अब कयास लगाया जा रहा है कि योगी मंत्रिमंडल विस्तार में भी युवा चेहरों को शामिल किया जा सकता है। इसके साथ ही आगामीं विधानसभा चुनाव के देखते हुए मंत्रिमंडल विस्तार के जरिए जातीय समीकरण भी साधने की कोशिश होगी।

आपको बता दें माना जा रहा है कि मंत्रिमंडल विस्तार में ठीक से काम न करने वाले मंत्रियों की कुर्सी जा सकती है, तो वहीं कुछ मंत्रियों को उनके अच्छे कामकाज का इनाम भी मिल सकता है। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह और महामंत्री संगठन सुनील बंसल मंगलवार को दिल्ली में केंद्रीय नेतृत्व से मिलने पहुंचे।

अब कहा जा रहा है कि केंद्रीय नेतृत्व ने भी मंत्रिमंडल विस्तार के लिए सहमति दे दी है। सूत्रों की मानें तो इस दौरान विधानसभा चुनावों के मद्देनज़र संगठन में कुछ बदलाव के साथ ही मंत्रिमंडल विस्तार पर चर्चा हुई है। इसके अलावा कुछ दर्जा प्राप्त मंत्रियों और आयोगों में भी तैनाती पर विचार हो रहा है। ऐसे में बकरीद के बाद 24 अथवा 25 जुलाई को मंत्रिमंडल विस्तार किया जा सकता है।

मौजूदा वक्त में योगी मंत्रिमंडल में 53 मंत्री हैं, इसके साथ ही सात पद खाली हैं। पार्टी सूत्रों की मानें तो मंत्रिमंडल विस्तार में ब्राह्रण चेहरे के रूप में जितिन प्रसाद को शामिल किया जा सकता है। वह हाल ही में कांग्रेस से भाजपा में शामिल हुए हैं। लिहाजा, उन्हें विपक्ष के ब्राह्मण वोटों की दावेदारी के प्रयास की काट के लिए जगह दी जा सकती है।

वही राजनीतिक पंडितो का मानना है कि OBC वोट बैंक को साधे रखने के लिए पार्टी संजय निषाद के साथ ही बहुजन समाज पार्टी से खिन्न चल रहे एक राजभर नेता को साथ लेने पर विचार कर रही है। ओमप्रकाश राजभर की काट के लिए इस राजभर नेता के किसी परिजन को MLC बनाया जा सकता है, या फिर मंत्रिमंडल में लेने का फैसला हो सकता है। वहीं भाजपा के सह संगठन मंत्री भवानी सिंह के स्थान पर संगठन के पुराने कार्यकर्ता को समाहित किया जा सकता है। संगठन में काम कर रहे एक दलित नेता की भी मंत्री पद के लिए दावेदारी की चर्चा है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
RNI News Ads