1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. अंतरराष्ट्रीय योग दिवस का भागी बना यूपी का ये जेल, कैदियों ने किया खूब योगा…

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस का भागी बना यूपी का ये जेल, कैदियों ने किया खूब योगा…

By RNI Hindi Desk 
Updated Date

जालौन: कोरोना की दस्तक से अंतरराष्ट्रीय योग दिवस को इस बार वर्चुअल तरीके से मनाया गया। जिसके अंतर्गत जालौन की जिला जेल के कैदियों ने सांसद के साथ योगा कर योग से निरोग होने के गुर सीखें। इसके साथ ही सरकार के निर्देश पर उरई जेल में वर्चुअल तरीक़े से योगा दिवस मनाया गया। जिसमें जिले भर के अधिकारी और स्थानीय लोग शामिल हुए।

कोरोना काल में कई कोविड मरीज योग से ठीक हुए, जिसको देखते हुए इसे दिनचर्या में शामिल किया गया। आज उरई जेल में सुबह 7 बजे से योग दिवस शिविर की शुरुआत की गई, जिसमें जिले के समस्त अधिकारियों ने हिस्सा लिया। इसके साथ ही प्रशासन की ओर से ज़ूम ऐप के द्वारा लिंक को सार्वजनिक किया गया था जिसमें स्थानीय लोगों ने भी अपनी सहभागिता निभाते हुए योग दिवस को सफल बनाया।

वहीं, मुख्य अतिथि के रूप में जिला जेल में उपस्थित जालौन के सांसद भानु प्रताप वर्मा ने बताया कि जेल अधीक्षक सीताशरण शर्मा के नेतृत्व में आज मुख्य अतिथि के तौर पर मैंने विचाराधीन कैदियों के साथ योगा किया. देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के आह्वान पर आज देश में योगा दिवस मनाया जा रहा है। इसी क्रम में जेल में कैदियों के साथ योगाभ्यास किया, साथ ही संदेश दिया कि यहां से बाहर निकलने के बाद समाज में बेहतर कार्य करें ताकि सिर उठाकर जीने अवसर प्राप्त हो सकें।

आपको बता दे कि उरई का ये जिला जेल अक्सर खबरों की सुर्खियों में बना रहता है।  उत्तर प्रदेश में बंदियों के सुधारात्मक रवैये और अनुशासन को लेकर उरई जेल ने पुरे प्रदेश में तीसरा स्थान प्राप्त किया था। अंतर्राष्ट्रीय मानकीकरण संगठन की ओर से प्रदेश भर की जेलों में किए गए सर्वे में उरई जेल को प्रदेश की अच्छी जेलों में शुमार किया गया था। जिसमें कैबिनेट मंत्री की ओर से जेल अधीक्षक सीताराम शर्मा को आईएसओ सर्टिफिकेट सौंपकर सम्मानित किया गया। कैबिनेट मंत्री ने जेल अधीक्षक सीताराम शर्मा की ओर से जेल में कराए जा रहे कार्यों की भी प्रशंसा की थी।

सीताराम शर्मा  ने बदली जिला कारागार की तस्वीर

उरई जेल का चार्ज लेने के बाद जेल अधीक्षक सीताराम शर्मा ने यहां पर बंदियों के लिए सुधारात्मक काम किए है। जिसमें शैक्षणिक कार्य, पुस्तकालय, रोजगार परक प्रशिक्षण कार्यक्रम, बंदियों के शारीरिक और मानसिक विकास के लिए विभिन्न संस्थाओं जिसमें पतंजलि योगपीठ, आर्ट ऑफ लिविंग और प्रजापति ब्रह्मकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय की ओर से कई कार्यक्रम आयोजित हुए।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
RNI News Ads