Home उत्तर प्रदेश प्रयागराज: बाहुबली अतीक अहमद के एक और करीबी पर चला योगी सरकार का बुलडोजर

प्रयागराज: बाहुबली अतीक अहमद के एक और करीबी पर चला योगी सरकार का बुलडोजर

1 second read
0
6

प्रयागराज: बाहुबली अतीक अहमद के एक और करीबी पर चला योगी सरकार का बुलडोजर अशरफ के ससुरालियों पर भी जमीन के धंधे में अवैध रूप से पैसे कमाने और अपराध से सम्पत्ति अर्जित करने का आरोप है. प्रयागराज. गुजरात के अहमदाबाद जेल में बंद भू-माफिया घोषित किए जा चुके बाहुबली पूर्व सांसद अतीक अहमद पर लगातार शिकंजा कसता जा रहा है.

प्रयागराज में बाहुबली अतीक अहमद की करोड़ों की दर्जनों प्रापर्टी कुर्क करने और कई अवैध व बेनामी सम्पत्तियों पर बुलडोजर चलाए जाने के बाद उसके एक और करीबी की संपत्ति सीज करने की कार्रवाई की गई है.

प्रयागराज विकास प्राधिकरण ने अतीक अहमद के भाई अशरफ के साले मोहम्मद जैद के करोड़ों के आलीशान बिल्डिंग पर भी सरकारी बुलडोजर चलाकर उसे जमींदोज कर दिया है. तीन साल से फरार चल रहे अशरफ को तीन जुलाई को क्राइम ब्रांच और पुलिस ने उसकी ससुराल में इसी मकान से गिरफ्तार भी किया था.

दरअसल कौशाम्बी जिले के पूरा मुफ्ती थाना अन्तर्गत सल्लाहपुर चौकी क्षेत्र के हटवा गांव में करोड़ों की लागत से 600 वर्ग मीटर भूमि पर दो मंजिला आलीशान बिल्डिंग खड़ी की थी. जिसका मानचित्र प्रयागराज विकास प्राधिकरण से स्वीकृत नहीं था. ये भी पढे़ं- बसपा के पूर्व एमएलसी हाजी इकबाल की ग्लोकल यूनिवर्सिटी को अटैच करने की तैयारी में ईडी इसके साथ ही बिल्डिंग से सटी 800 वर्ग मीटर जमीन पर भी जैद ने कब्जा कर रखा था.

जिसके बाद प्रयागराज विकास प्राधिकरण ने नगर नियोजन एवं विकास अधिनियम 1973 के तहत विधिक ध्वस्तीकरण आदेश पारित कर ये कार्रवाई की है. ध्वस्तीकरण की कार्रवाई से पहले बिल्डिंग को खाली कराया गया और बाउन्ड्रीवाल को सबसे पहले ध्वस्त किया गया. जिसके बाद 600 वर्ग मीटर में बने भवन को जजेसीबी मशीनें लगाकर जमींदोज कर दिया गया. अशरफ के साले सात भाई हैं जिनमें मोहम्मद जैद भी शामिल हैं.

अशरफ के साले जैद एक इंटर कॉलेज में इतिहास के प्रवक्ता के पद भी तैनात हैं. लेकिन अशरफ की तीन साल की फरारी के दौरान उसके ससुराल में ही रहने की पुलिस को कई बार सूचना मिली थी. लेकिन कई बार पुलिस की छापेमारी के पहले ही उसे खबर लग जाती थी और वो फरार हो जाता था.

अशरफ पर गिरफ्तारी के लिए एक लाख का इनाम भी घोषित किया गया था. जिसके बाद 3 जुलाई को पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर जेल भेजा है. वहीं अशरफ के ससुरालियों पर भी जमीन के धंधे में अवैध रूप से पैसे कमाने और अपराध से सम्पत्ति अर्जित करने का आरोप है. लेकिन पुलिस और प्रशासन जिस तरह से ताबड़तोड़ कार्रवाई कर रही है. उससे अपराधियों और माफियाओं में हड़कंप मचा हुआ है.

Load More In उत्तर प्रदेश
Comments are closed.