Home उत्तराखंड अखाड़ा परिषद भंग नहीं, बैरागी अखाड़ों की नाराजगी जायज… सीएम से होगी बातचीत

अखाड़ा परिषद भंग नहीं, बैरागी अखाड़ों की नाराजगी जायज… सीएम से होगी बातचीत

0 second read
0
3

रिपोर्ट : मोहम्मद आबिद
हरिद्वार:  कुंभ मेला हरिद्वार 2021 की व्यवस्थाएं दुरुस्त ना होने से नाराज़ और उत्तराखंड शासन द्वारा अपना तिरस्कार उपेक्षा झेल रहे बैरागी सम्प्रदाय के तीनों अखाड़ों ने त्रस्त होकर दुखी मन से अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद का बहिष्कार कर दिया था और अखाड़ा परिषद के भंग होने की बात कही थी जिसके बाद आज अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरी ने अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के भंग होने का खंडन किया है।

अखाड़ा परिषद के भंग होने की बात को भ्रामक प्रचार बताया है वही महंत नरेंद गिरी ने तीनो बैरागी अखाड़ों में कुम्भ कार्यो को पूरा ना होने से उपजे आवेश को भी उचित बताया है वही मेला अधिकारी दीपक रावत का कहना है कि जल्द ही बैरागी अखाड़ों की व्यवस्था की जाएगी।

महंत नरेंद्र गिरी ने अखाड़ा परिषद के भंग होने का खंडन करते हुए कहा कि तीनों बरैगी अखाड़ों के अखाड़ा परिषद से अलग होने की बात असत्य है, तीनों बैरागी सम्प्रदाय के अखाड़ो के श्री महंत से वार्ता हुई है और प्रतिनिधियों ने आवेश में आकर इस तरह की बात कही है, बैरागी तीनों अखाड़ों का आवेश सही भी है तीनों अखाड़ों के लिए होने वाली व्यवस्थाओं को लेकर मुख्यमंत्री और मेलाधिकारी से कई बार चर्चा की गई मगर अभी तक किसी कारण वश व्यवस्थाएं दुरुस्त नही हुई है।

 

महंत नरेंद्र गिरी का यह भी कहना है कि अधिकारी खुद बैठक कर प्रस्ताव पारित कर रहे और इन प्रस्तावों को संतों पर थोपा जा रहा है इस बारे में जब उत्तराखंड के मुख्यमंत्री से मेरी वार्ता हुई तो उनका भी कहना है कि अधिकारियों को बैरागी अखाड़ों को सभी व्यवस्थाएं उपलब्ध करने के निर्देश दिए गए है।

Load More In उत्तराखंड
Comments are closed.