Home क्राइम हर एक 1 KM के हिसाब से घूस लेती SDM पिंकी मीणा, बना रखी थी EMI..जमानत मिलते ही बढ़ी मुश्किलें

हर एक 1 KM के हिसाब से घूस लेती SDM पिंकी मीणा, बना रखी थी EMI..जमानत मिलते ही बढ़ी मुश्किलें

1 second read
0
358

नई दिल्ली : घूस लेना और देना दोनों दण्डनीय अपराध है, जो पंक्ति सिर्फ कानून के दीवारों और कानूनि किताबों तक ही सीमित है। क्योंकि देश के कई क्षेत्रों से लगातार घूस के नये मामले सामने आ रहे है, जो चाहे राजस्थान के दौसा का हो या महाराष्ट्र के एंटिलिया मामले का, जिसमें सरकारी ऑफिसर परमबीर सिंह ने महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख पर ही ये आरोप लगाया कि उन्हीं के दबाव के कारण सचिन वाजे ने एंटिलिया केस का षड्यंत्र रचा। क्योंकि देशमुख साहब की डिमांड थी कि उन्हें हर महीने 100 करोड़ पहुंचाया जाएं।

इस घटना के सामने आने के बाद जो बातें पहले धीमी जुबान में लोग कहते थे, अब वे इस मामले में किसी भी अफसर के घूस के डिमांड को देश के उन नेताओं से जोड़कर देखते हैं, जो सदन के किसी भी सभा के सदस्य है। खैर हम आते हैं, उस अफसर पर जो हर एक 1 किलोमीटर के हिसाब से घूस लेती है। हम बात कर रहें है, राजस्थान के दौसा एसडीएम पिंकी मीणा की।

जांच में पता चला है कि वह कंपनी से हर किलोमीटर के लिए एक लाख रुपए की लेने की डिमांड करती थी। इतना ही नहीं इस घूस की उसने किस्त तक बना रखी थी। यह रकम वह आए दिन बढ़ाती जा रही थी। बता दें कि हाल ही में शुक्रवार को पिंकी मीणा को 65 दिन बाद जमानत मिली है।

दरअसल, प्रति किलोमीटर के लिए एक लाख रुपए की घूस का खुलासा ACB कोर्ट में दायर की गई 4 हजार पन्नों की चार्जशीट से हुआ है। जांच में सामने आया है कि इस दौरान पिंकी मीणा ने  6 महीने तक किसानों का मुआवजा अटकाए भी रखा। जिससे  कंपनी पर घूस देने के लिए दबाव बन जाए।

रोक रखा था किसानों के मुआवजे का पैसा

आपको बता दें कि नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (NHAI) के भारतमाला प्रोजेक्ट के लिए जमीन अधिग्रहण से जुड़ा मामले को पिंकी मीणा देख रही थी। जिसके तहत इस प्रोजेक्ट में आने वाले किसानों को मुआवजा मिलना था, जानकारी के मुताबिक यह पैसा शासन से प्रशासन को मिल चुका था। लेकिन इसके बाद भी पिंकी ने यह पैसा रोक रखा था। इसके बाद ही हाईवे कंपनी को जमीन पर कब्जा दिलाना था।

मिली थी शादी के लिए 10 दिन की जमानत

करीब ढाई महीने पहले जयपुर मुख्यालय से दौसा गई एसीबी की टीम ने एसडीएम दौसा उपखण्ड अधिकारी पुष्कर मित्तल को 5 लाख रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ गिरफ्तार किया था। वहीं, एसडीएम बांदीकुई एसडीएम पिंकी मीणा को कंपनी से 10 लाख रुपए की रिश्वत मांगने के मामले में गिरफ्तार किया था। 14 जनवरी यानी 65 दिन से पिंकी मीणा जेल में थी। शादी के लिए बीच में उनको 10 दिन की अंतरिम जमानत मिली थी। इसी मामले में एसीबी ने दौसा के तत्कालीन एसपी मनीष अग्रवाल और उनके लिए दलाली करने वाले नीरज मीणा और गोपाल सिंह को भी गिरफ्तार किया था।

Load More In क्राइम
Comments are closed.