Home उत्तर प्रदेश जहरीली शराब मामला : बड़े अफसरों के खिलाफ विभागीय कार्यवाही के निर्देश

जहरीली शराब मामला : बड़े अफसरों के खिलाफ विभागीय कार्यवाही के निर्देश

0 second read
0
10

जहरीली शराब मामला : बड़े अफसरों के खिलाफ विभागीय कार्यवाही के निर्देश

बुलंदशहर शराब कांड पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने एक्शन लिया है। बुलंदशहर में जहरीली शराब पीने से पांच लोगों की मौत होने पर योगी ने संयुक्त आबकारी आयुक्त राजेश मणि त्रिपाठी और उप आबकारी आयुक्त सुरेश चंद्र पटेल को तत्काल हटाने के निर्देश जारी कर दिए हैं। दोनों बड़े अफसरों के खिलाफ विभागीय कार्यवाही के भी निर्देश दिए गए हैं।

इसके अलावा जिला आबकारी अधिकारी बुलंदशहर संजय कुमार त्रिपाठी भी हटाए गए। मामले में आबकारी निरीक्षक सहित प्रधान आबकारी सिपाही और दो आबकारी सिपाही निलंबित कर दिए गए हैं। संयुक्त आबकारी आयुक्त और उत्तर प्रदेश आबकारी आयुक्त को आबकारी आयुक्त मुख्यालय से संबंध किया गया है।

सीएम योगी के निर्देशानुसार हटाए गए सभी आबकारी अधिकारियों की विभागीय जांच होगी। इसके अलावा आबकारी निरीक्षक प्रभात वर्धन, प्रधान आबकारी सिपाही रामबाबू, आबकारी सिपाही श्रीकांत सॉन्ग और सलीम अहमद को सस्पेंड कर दिया गया।

इससे पहले इस मामले में थाना पुलिस की लापरवाही मानते हुए थाना प्रभारी दिक्षित कुमार त्यागी, हलका इंचार्ज और चौकी प्रभारी प्रभारी अनोखे पूरी को निलंबित कर दिया गया था। साथ ही तीन लोगों को भी हिरासत में लिया गया था। इस घटना का मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने संज्ञान लेते हुए दोषियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई के आदेश दिए थे। उन्होंने दोषियों पर रासुका और गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई करने के निर्देश दिए थे।

बुलंदशहर शराब कांड को लेकर पुलिस सूत्रों ने बताया था कि सिकंदराबाद कोतवाली क्षेत्र के गांव जीतगढ़ी में बीती रात नौ लोगों ने गांव के ही एक व्यक्ति से शराब खरीदी और सभी ने एक साथ बैठकर शराब का सेवन किया। देर रात में गांव के सतीश, कलुआ , रंजीत और सुखपाल की हालत बिगड़ने शुरू हो गई। परिजन चारों को अस्पताल ले गए लेकिन अस्पताल पहुंचने से पहले चारों ने दम तोड़ दिया वहीं शराब पीने वाले पांच लोगों को भी आज सुबह अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां एक की उपचार के दौरान मौत हो गयी।

उन्होंने बताया कि शराब का सेवन करने वालों में आठ अन्य गांव के लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। आबकारी विभाग की टीम भी ग्राम जीत गड़ी में पहुंची और मामले की जांच शुरू कर दी। जिला मजिस्ट्रेट रविंद्र कुमार और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार सिंह आज सुबह मौके पर पहुंच गए। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने बताया कि जहरीली शराब पीने से पांच लोगों की मौत हुई है वहीं 16 लोगों की हालत खराब है जिनको सरकारी और निजी अस्पतालों में इलाज के लिए भर्ती कराया गया था।

ग्रामीणों ने डीएम एसएसपी के सामने पुलिस की मिलीभगत से गांव में अवैध शराब बिक्री का आरोप लगाते हुए कहा कि पुलिस के संरक्षण में शराब माफिया खुलेआम अवैध रूप से शराब की बिक्री कर रहे हैं। डीएम ने स्वीकार किया कि इस धंधे में गांव के ही कुलदीप का नाम सामने आया है।

उसके घर की तलाशी से मिस इंडिया मार्का शराब की बोतलें बरामद हुई हैं। जिला मजिस्ट्रेट ने बताया कि प्रशासन की प्राथमिकता शराब पीने से बीमार लोगों की जान बचाना है इसी उद्देश्य से 16 लोगों को आसपास के निजी व सरकारी अस्पतालों में इलाज के लिए भर्ती कराया गया है।

Load More In उत्तर प्रदेश
Comments are closed.