Home देश प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के 5 साल पूरे होने पर पीएम मोदी ने लाभार्थियों को दी बधाई

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के 5 साल पूरे होने पर पीएम मोदी ने लाभार्थियों को दी बधाई

1 min read
0
5

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना को लागू हुए आज पांच साल हो गए हैं। केंद्र सरकार ने इस योजना को 13 जनवरी 2016 को लागू किया था। भारत सरकार ने 5 साल पहले 13 जनवरी 2016 को देश के किसानों के लिए फसलों के जोखिम कवरेज को मजबूत करने की दिशा में यह कदम उठाया था।

किसानों को हर साल बाढ़, आंधी, तेज बारिश के चलते काफी नुकसान उठाना पड़ता है। उन्हें ऐसी प्राकृतिक आपदाओं से राहत देने के लिए PMFBY शुरू की गई थी. भारतीय कृषि बीमा कंपनी इस योजना को चलाती है। धीरे-धीरे इस योजना से किसान जुड़ते गए और यह संख्या आज लाखों में पहुंच गई है।

5 साल पूरे होने के मौके पर पीएम मोदी ने एक के बाद एक कोई ट्वीट किये। उन्होंने अपने पहले ट्वीट में देशवासियों के अच्छे स्वस्थ की कामना करते हुए लिखा सभी को भोगी नमस्कार। मैं प्रार्थना करता हूं कि यह विशेष दिन सभी के जीवन को खुशियों और अच्छे स्वास्थ्य से भर दे।

पीएम ने अपने अगले ट्वीट में लिखा प्रकृति की योनियों से मेहनती किसानों को सुरक्षित करने के लिए एक महत्वपूर्ण पहल, पीएम फसल बीमा योजना को आज 5 साल पूरे हो गए हैं। इस योजना ने कवरेज बढ़ाया है, जोखिम कम किया है और किसानों को करोड़ों का फायदा हुआ है। मैं योजना के सभी लाभार्थियों को बधाई देता हूं। # फैसलबीमा 4 सफ़लकिसान

उन्होंने आगे लिखा पीएम फसल बीमा योजना ने किसानों को अधिक लाभ कैसे सुनिश्चित किया है? दावों के निपटान में पारदर्शिता को कैसे आगे बढ़ाया गया है? ये, और पीएम-एफबीवाई से संबंधित अन्य पहलुओं का जवाब NaMo ऐप के आपके वॉयस सेक्शन में अभिनव सामग्री के माध्यम से दिया गया है।

मोदी ने लिखा देश के अन्नदाताओं को प्रकृति के प्रकोप से सुरक्षा प्रदान करने वाली पीएम फसल बीमा योजना के आज 5 साल पूरे हो गए हैं। इस स्कीम के तहत नुकसान का कवरेज बढ़ने और जोखिम कम होने से करोड़ों किसानों को लाभ हुआ है। इसके सभी लाभार्थियों को मेरी बहुत-बहुत बधाई। #FasalBima4SafalKisan

प्रधानमंत्री ने आगे लिखा पीएम फसल बीमा योजना ने कैसे किसानों को अधिक से अधिक लाभ सुनिश्चित किया है? दावों के निस्तारण में कैसे पूरी पारदर्शिता बरती गई है? PM-FBY से संबंधित ऐसी सभी जानकारियां NaMo App के Your Voice सेक्शन में रखी गई हैं। जानें और शेयर करें। #FasalBima4SafalKisan

इस योजना के अंतर्गत किसान के हिस्से के अतिरिक्‍त प्रीमियम का खर्च राज्यों और भारत सरकार की ओर से समान रूप से दिया जाता है। हालांकि, भारत के पूर्वोत्तर राज्यों में दिलचस्‍पी बढ़ाने के लिए भारत सरकार इस क्षेत्र में 90 प्रतिशत प्रीमियम सहायता की राशि देती है। पीएमएफबीवाई के तहत औसत बीमा की राशि बढ़ाकर 40,700 रुपये कर दी गई है जो पीएमएफबीवाई से पूर्व की योजनाओं के दौरान प्रति हेक्टेयर 15,100 रुपये थी।

Load More In देश
Comments are closed.