Home उत्तराखंड अखाड़ा परिषद अध्यक्ष की मांग पर तिलमिलाया विपक्ष, कहा- देश संविधान से चलेगा ना कि धर्म गुरुओं के कहने से

अखाड़ा परिषद अध्यक्ष की मांग पर तिलमिलाया विपक्ष, कहा- देश संविधान से चलेगा ना कि धर्म गुरुओं के कहने से

1 second read
0
12

रिपोर्ट: नंदनी तोदी
हरिद्वार: देश के छह लाख शहरों ओर गांवों में से 704 के नाम छह मुगल शासकों के नाम पर है। ये नाम बाबर, हुमायूं, अकबर, जहांगीर, शाहजहां और औरंगजेब पर है। इसे लेकर पहले भी विवाद खड़े हो चुके हैं, अब एक बार फिर अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष के एक बयान पर अब सियासत होने लगी है।

दरअसल, अखाड़ा परिषद अध्यक्ष नरेंद्र गिरी इन दिनों हरिद्वार कुंभ में शामिल होने निरंजनी अखाड़े में गए हुए हैं। वही उन्होंने एक वीडियो संदेश के ज़रिये मुगलों के नाम पर बनी सड़कों को शहीदों के नाम पर किए जाने की मांग की है।

अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरी ने कहा कि देश को आजाद हुए करीब 75 वर्ष हो गए हैं। लेकिन आज भी देश में कई ऐसी जगह और सड़कें हैं, जिनके नाम या तो मुगलों के नाम पर हैं या तो फिर अंग्रेजों के नाम पर है। उन्होनें कहा आक्रमणकारियों और देश को नुकसान पहुंचाने वालों के नाम की सड़कों को देखने से साधु-संतों ही नहीं बल्कि आज के युवाओं को भी कष्ट होता है।

अखाडा परिषद् अध्यक्ष ने कहा कि आजादी से पहले देश से गद्दारी करने वालों और भारतीयों पर जुल्म करने वालों के नाम से देशभर की सभी सड़कों का नाम बदला जाए। महंत नरेंद्र गिरी ने कहा है कि सड़कों का नाम बदलकर शहीद चंद्रशेखर आजाद, सुभाष चंद्र बोस, सरदार बल्लभ भाई पटेल गुलजारीलाल नंदा और वीर अब्दुल हमीद जैसे देशभक्तों के नाम की जाए।

अखाड़ा परिषद् के अध्यक्ष के इसी बयां पर विपक्ष ने उनपर हमला बोला है। सपा प्रवक्ता विवेक साइल्स ने कहा कि सरकार को नाम बदलने की जगह डेवलपमेन्ट पर ध्यान देना चाहिए।

वही कांग्रेस प्रवक्ता अशोक सिंह ने कहा कि देश संविधान से चलेगा ना कि धर्म गुरुओं के कहने से। चाहे वह हिंदू, मुस्लिम, सिख धर्म या इसाई धर्म गुरु ही क्यों न हो। कांग्रेस प्रवक्ता में सवाल उठाया कि देश संविधान के कहने पर चलेगा या अखाड़ा परिषद के कहने पर? इस तरह की भाषा और बयान किसी भी धर्म गुरु साधु-संतों को शोभा नहीं देती हैं। उन्हें ऐसा नहीं बोलना चाहिए।

Load More In उत्तराखंड
Comments are closed.