1. हिन्दी समाचार
  2. विदेश
  3. चीन को लेकर एक बार फिर पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति ने दिया बड़ा बयान, कहा- चीन करें 10 ट्रिलियन डॉलर का भुगतान

चीन को लेकर एक बार फिर पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति ने दिया बड़ा बयान, कहा- चीन करें 10 ट्रिलियन डॉलर का भुगतान

By Amit ranjan 
Updated Date

वाशिंगटन : कोरोना के तीसरे स्टेज में आने के साथ ही एक बार फिर पूरी दुनिया यह पता लगाने की कोशिश कर रही है कि आखिर इस वायरस की उत्पत्ति कहां औऱ कैसे हुई। एक तरफ जहां अधिकतर देशों की मीडिया इस वायरस को लेकर चीन को दोषी ठहरा चुकी है। वहीं अब वर्तमान जो बाइडेन सरकार ने भी अपने सुरक्षा एजेंसियों को इस वायरस के बारे में पता लगाने को कहा है।

वहीं दूसरी तरफ एक बार फिर पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति ने चीन को लेकर बड़ा बयान दिया है। इसके साथ ही उन्होंने चीन को अमेरिका और पूरी दुनिया को 10 ट्रिलीयन डॉलर भुगतान करने को कहा है। ट्रंप ने कहा कि, मेरे दुश्मनों ने भी यह कहना शुरू कर दिया है कि मैं वुहान लैब से निकले चीनी वायरस के बारे में सही थे। उन्होंने अमेरिका और दुनिया में मची कोरोना से तबाही के लिए चीन से 10 ट्रिलियन डॉलर का भुगतान करने को कहा है।

आपको बता दें कि डोनाल्ड ट्रम्प को फेसबुक और ट्विटर जैसे सोशल मीडिया कंपनियों ने बैन कर दिया है। ऐसे में ट्रम्प ने बयान जारी किया। इसमें उन्होंने लिखा, अब हर कोई, यहां तक कि मेरे तथाकथित ‘दुश्मन’ ने भी यह कहना शुरू कर दिया कि डोनाल्ड ट्रम्प वुहान लैब से निकले चीनी वायरस के बारे में सही थे। चीन को अमेरिका और दुनिया को कोरोना से मौत और विनाश के लिए 10 ट्रिलियन डॉलर देने चाहिए।

ध्यान हो कि, पूरी दुनिया कोरोना की दूसरी लहर का सामना कर रही है। ऐसे में अमेरिका, ब्रिटेन समेत कई देशों में कोरोना की उत्पत्ति को लेकर जांच की मांग उठ रही है। यहां तक की अमेरिका की बाइडेन सरकार ने खुफिया एजेंसी से इस मामले में रिपोर्ट भी मांगी है। ऑस्ट्रेलिया समेत कई विदेशी मीडिया तो खुलकर कोरोना के पीछे चीन का हाथ बता चुकी हैं।

कोरोना का पहला केस वुहान में मिला था

आपको बता दें कि कोरोना का पहला केस चीन के वुहान में नवंबर 2019 में मिला था। इसके बाद धीरे धीरे यह पूरी दुनिया में फैला। कोरोना की पहली लहर के वक्त भी चीन पर कोरोना को लेकर जानकारी छिपाने का आरोप लगा था। विदेशी मीडिया भी यह दावा कर चुकी है कि चीन के वुहान लैब से कोरोना निकला। इतना ही नहीं ट्रम्प ने कोरोना को लेकर चीन और WHO पर भी गंभीर आरोप लगाए थे।

खैर अभी इसका रिपोर्ट कितने दिनों में आयेगा, इसकी कोई जानकारी तो नहीं, लेकिन जिस तरह इस महामारी ने कई लोगों के जान लेने के साथ ही कई देशों की आर्थिक व्यवस्था भी बिगाड़ कर रख दी है। इसलिए किसी भी विश्व स्तरीय संगठन को दोषी देश के साथ रहम न बरतते हुए बड़ा जुर्माना और पाबंदी लगानी चाहिए, जिससे वो फिर दुबारा इस तरह का कोई गलत कदम न उठाये।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
RNI News Ads