Home उत्तर प्रदेश प्रतापगढ़ पुलिस की बड़ी कार्रवाई 10 करोड़ की अवैध शराब की जब्त, JCB से खोदकर निकाला गया जखीरा

प्रतापगढ़ पुलिस की बड़ी कार्रवाई 10 करोड़ की अवैध शराब की जब्त, JCB से खोदकर निकाला गया जखीरा

32 second read
0
24

रिपोर्ट: सत्यम दुबे

प्रतापगढ़: यूपी पंचायत चुनाव को देखते हुए सख्त हुई यूपी की प्रतापगढ़ पुलिस को शुक्रवार रात बड़ी कामयाबी हाथ लगी है। पुलिस ने एक फॉर्म हाउस के अंदर बनाईगई गोशाला से करोड़ो रुपये की अवैधरराब बरामद की है। इस दौरान पुलिस ने ड्रम केमिकल, हजारों शीशियां, रैपर व शराब बनाने के उपकरण भी बरामद किए हैं। पुलिस की कार्रवाई रात में भी जारी रही, पुलिस की मानें तो बरामद की गई शराब और उपकरणों की कीमत करीब 10 करोड़ रुपये है।

शुक्रवार शाम हथिगवां थाना क्षेत्र के नौबस्ता परसीपुर स्थित एक शराब माफिया के फार्म हाउस पर पुलिस व आबकारी विभाग की टीम ने संयुक्त रूप से छापेमारी की। इस दौरान फार्म हाउस में कथित रूप से बनाई गई गोशाला में भूसे और पुआल की आड़ में अवैध शराब छिपाई गई थी। शराब बनाने के लिए लाया गया केमिकल ड्रमों में भरकर भूसे और पुआल के अंदर रखा गया था।

इसके साथ ही शराब माफिया ने रैक्टीफाइड स्प्रिट और केमिकल को ड्रम में भरकर फार्म हाउस परिसर में मिट्टी के अंदर भी छिपाए थे। पुलिस को देखकर फार्म हाउस में मौजूद लोग भाग निकले। कार्रवाई के बाद एडीजी प्रेम प्रकाश ने बताया कि यह फार्म हाउस गुड्डू सिंह का है। कार्रवाई में करीब 10 करोड़ की बरामदगी हुई है।

ADG ने बताया कि इस मामले में हल्का दरोगा और बीट के सिपाहियों को तत्काल प्रभाव से निलंबित करते हुए पूर्व थानाध्यक्ष के खिलाफ एंटी करप्शन जांच की संस्तुति की गई है। एडीजी ने आगे बताया कि कार्रवाई लंबी चलेगी। इसलिए फिलहाल अभी गांव में एक अस्थायी पुलिस चौकी बना दी गई है। उस पर पुलिसकर्मी तैनात कर दिए गए हैं।

आपको बता दें कि शराब माफियाओं ने शराब बनाने वाला केमिकल और कुछ बनी शराब को मिट्टी के अंदर छिपाकर रखा था। इसको बरामद करने के लिए जेसीबी बुलाकर देर रात तक खुदाई करवाई गई। पुलिस की ये कार्रवाई शुक्रवार शाम 6 बजे से शुरु हुई और देर रात तक चलती रही।

इस मामले में IG केपी सिंह ने बताया कि इस कार्रवाई में 96 ड्रम बरामद कर लिए गए थे, आगे की कार्रवाई जारी थी।  इनमें ओपी (शराब बनाने का केमिकल) भरा था। प्रत्येक ड्रम की कीमत उन्होंने दो लाख रुपये बताई। लगभग सभी ब्रांड के 36 बोरे ढक्कन मिले हैं।

आईजी की मानें तो एक लाख 23 हजार शीशियां भी फार्म हाउस के अंदर मिली हैं। इनमें बनाई गई अवैध शराब को भरकर बेचा जाता था। 27 सौ गत्ते एवं 133 पेटी बनी हुई शराब भी पुलिस ने बरामद की है। यह शराब लोकल ब्रांड की बताई गई। इन्हें माफिया जिले के साथ आसपास के कई जनपदों में सप्लाई करता था।

हल्का दरोगा हंसराज दुबे और बीट सिपाही जितेंद्र चौहान को तत्काल प्रभाव ने निलंबित कर दिया गया है। एडीजी प्रेम प्रकाश ने पूर्व एसओ उदय त्रिपाठी को इस अवैध कारोबार के लिए दोषी माना। आपको बता दें कि हाल ही में एक प्रधान प्रत्याशी ने अपने कुछ समर्थकों को शराब पिलाई थी, जिसके बाद कई लोगों की मौत हो गई थी। हरकत में आई प्रतापगढ़ पुलिस ने ये कार्रवाई की है।

 

Load More In उत्तर प्रदेश
Comments are closed.