Home उत्तराखंड श्रीराम सेंटर फॉर परफार्मिंग आर्ट’ की वर्कशाप डायरेक्टर बनी उत्तराखण्ड की लक्ष्मी रावत

श्रीराम सेंटर फॉर परफार्मिंग आर्ट’ की वर्कशाप डायरेक्टर बनी उत्तराखण्ड की लक्ष्मी रावत

1 second read
0
6

रिपोर्ट: नंदनी तोदी
देहरादून: थिएटर की दुनिया के लिए एक बड़ी खबर सामने आई है। देहरादून स्थित देश के बड़े थिएटरो में से एक ‘श्रीराम सेंटर फॉर परफार्मिंग आर्ट’ में एक नया नाम नाम जुड़ गया है।

दरअसल, थियेटर आर्टिस्ट लक्ष्मी रावत देश के बड़े थियेटर ग्रुपों में से एक ‘श्रीराम सेंटर फॉर परफार्मिंग आर्ट’ की नयी वर्कशाप डायरेक्टर बन गई हैं। पौड़ी जिले के यमकेश्वर ब्लाॅक के बणस गांव की रहने वाली लक्ष्मी रावत ने अपने थियेटर कैरियर की शुरुआत भी श्रीराम सेंटर से ही की थी। उन्होंने श्रीराम सेंटर में दो साल का डिप्लोमा इन परफोर्मिंग आर्ट किया था। अब लक्ष्मी बतौर थियेटर की वर्कशॉप डायरेक्टर बनकर छात्रों को अलग-अलग विभिन्न तरह से ट्रेनिंग देंगी।

श्रीराम सेंटर से कोर्स करने के साथ साथ लक्ष्मी ‘इंदिरा गाँधी राष्ट्रीय कला केंद्र’ दिल्ली में जॉब कर रही थीं। इतना ही नहीं लक्ष्मी ने कई चर्चित नाटकों में काम किया और साल 2002 में खुद के थियेटर ग्रुप ’प्रज्ञा आर्ट्स’ खोला।

लक्ष्मी के प्रमुख नाटकों में तीलू रौतेली, तृष्णा, जीतू बगड़वाल, चल अब लौट चलें, कै जावा भेंट आखिर, शांति विहार गली नंबर 6, क्योंकि मैं औरत हूं, पर्दा उठाओ पर्दाए गिराओ है। बता दें, लक्ष्मी रावत द्वारा निर्देशित और उन्हीं की मुख्य भूमिका वाला प्रज्ञा आर्ट्स का नाटक ’क्योंकि मैं औरत हूं’ भारत ही नहीं अन्य देशों में भी इसकी प्रशंसा की गई। ये नाटक निर्भया काण्ड के इर्द-गिर्द रची गयी थी।

बता दे, लक्ष्मी कई मास कम्युनिकेशन इंस्टिट्यूट में फैकल्टी के हैं। इतना ही नहीं उन्हें यूनेस्को ने साल 2009 में उत्तराखण्ड की लोककला रम्माण को विश्व धरोहर घोषित किया था।

Load More In उत्तराखंड
Comments are closed.