Home मनोरंजन कंगना रनौत ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे पर साधा निशाना, ट्वीट कर कही ये बात

कंगना रनौत ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे पर साधा निशाना, ट्वीट कर कही ये बात

2 min read
0
1

कंगना रनौत और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के बीच एक बार फिर जुबानी बहस छ‍िड़ गई है। इस बार ये लड़ाई ड्रग्स की खेती को लेकर है। दरअसल, सीएम ठाकरे ने रव‍िवार को दशहरा रैली में कंगना के पीओके वाले बयान के संदर्भ में कहा था क‍ि कुछ लोग मुंबई को ड्रग्स का हब कहकर बदनाम करने की कोश‍िश कर रहे है।

उन्होंने कंगना के होमटाउन हिमाचल प्रदेश की ओर इशारा करते हुए कहा कि लोगों को ये नहीं पता क‍ि गांजा की खेती आख‍िर कहां होती है। सीएम के इस बयान के बाद अब कंगना ने उन्हें जवाब दिया है।

कंगना रनौत ने महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे पर ज़ोरदार पलटवार किया है। कंगना उद्धव ठाकरे को नेपोटिज़्म का सबसे घटिया उत्पाद तक कह दिया। उद्धव ने रविवार शिव सेना की दशहरा रैली में कंगना का नाम लिये उन पर निशाना साधा था। सुशांत सिंह राजपूत डेथ और बॉलीवुड ड्रग्स केस के ज़रिए कंगना महाराष्ट्र सरकार और मुंबई पुलिस पर तीख़े हमले बोलती रही हैं।

कंगना ने सोमवार को लगातार कई ट्वीट करके उद्धव ठाकरे पर अपना गुस्सा निकाला। कंगना ने एक ट्वीट को रीट्वीट करके लिखा- ”राउत ने मुझे हरामखोर कहा था, अब उद्धव ने मुझे नमक-हराम कहा है। वो दावा कर रहे हैं कि मुझे मेरे राज्य में खाना नहीं मिलता, अगर मुंबई मुझे शरण नहीं देती। आपको शर्म आनी चाहिए, मैं आपके बेटे की उम्र की हूं। अपने दम पर बनी महिला के बारे में आप ऐसे बोलते हैं। मुख्यमंत्री आप नेपोटिज़्म का सबसे ख़राब प्रोडक्ट हैं।”

एक्ट्रेस ने लिखा- मुख्यमंत्री, मैं आपकी तरह अपने पिता की ताक़त और सम्पदा के नशे में नहीं हूं। अगर मैं नेपोटिज़्म का प्रोडक्ट बनना चाहती तो हिमाचल में ही रहती। मैं एक जाने-माने परिवार से आती हूं। मैं उनकी संपत्ति और सहारे पर ज़िंदा नहीं रहना चाहती थी। कुछ लोगो में आत्म-सम्मान होता है और अपनी कीमत पता होती है।

इससे पहले कंगना ने लिखा था- मुख्यमंत्री आप बहुत छोटे इंसान हो। हिमाचल को देव भूमि कहा जाता है। यहां सबसे अधिक मंदिर हैं। अपराध की दर शून्य है (यहां कंगना ने टाइपो इरर करते हुए No Zero Crime Rate लिखा है, जिसे आगे के ट्वीट में सुधारा है)। जी हां, यह बहुत उपजाऊ है भूमि है। यहां सेब, कीवी, अनार, स्ट्रॉबरी और कुछ भी उगाया जाता है।

कंगना ने इसे जारी रखते हुए लिखा- एक नेता के तौर पर आप एक ऐसे राज्य के बारे में बदले की भावना से भरे, संकरी सोच और ख़राब जानकारी वाले विचार रखते हैं, जो भगवान शंकर और पार्वती समेत मार्कंडेय, मनु ऋषि और वनवास में पांडवों की भूमि रही हैं।

आपको ख़ुद को मुख्यमंत्री कहते हुए शर्म आनी चाहिए। लोक सेवक होते हुए आप छोटी-छोटी लड़ाइयों में उलझे हैं। ताक़त का इस्तेमाल ऐसे लोगों को अपमानित करने, नुक़सान पहुंचाने और आतंकित करने के लिए कर रहे हैं, जो आपसे इत्तेफ़ाक़ नहीं रखते। आप इस कुर्सी के लायक नहीं हैं, जिसे गंदी राजनीति से हासिल किया है। शर्मनाक।

कंगना ने आगे लिखा कि मैं एक मुख्यमंत्री द्वारा तंग करने से इतने भावातिरेक में हूं कि पहले ट्वीट में टाइपो इरर कर दी। यह, हिमाचल में कोई अपराध नहीं, होना चाहिए। आगे साफ़ करते हुए, हिमाचल प्रदेश में ग़रीब और बहुत अमीर लोग नहीं हैं। अपराध भी नहीं है। यह दयालु और मासूम लोगों वाली आध्यात्मिक जगह है।

कंगना ने मुंबई को अपना घर बताते हुए लिखा- हिमालयों की ख़ूबसूरती जिस तरह हर भारतीय के लिए है, उसी तरह मुंबई जो अवसर देता है, वो हम सबके लिए हैं। दोनों मेरे घर हैं। उद्धव ठाकरे, हमारे प्रजातांत्रिक अधिकारों को छीनने और बांटने की कोशिश ना करें। आपके घटिया भाषण आपकी अकर्मण्यता का बेहूदा प्रदर्शन हैं।

Load More In मनोरंजन
Comments are closed.