Home उत्तराखंड जगद्गुरु शंकराचार्य का सरकार पर हमला, कहा- सरकार के कहने पर चलता है कोरोना

जगद्गुरु शंकराचार्य का सरकार पर हमला, कहा- सरकार के कहने पर चलता है कोरोना

1 second read
0
31

रिपोर्ट: नंदनी तोदी
हरिद्वार: हरिद्वार में आयोजित सबसे बड़े धार्मिक कार्यक्रम में देश के कोने-कोने से साधू संत हिस्सा लेने आये हैं। इसी में से एक हैं द्वारिका शारदा और ज्योतिष पीठ के शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती। धर्मनगरी पहुंचते ही उन्होंने सरकार पर तीखे हमले साधे है।

शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती महाराज ने कहा कि कोरोना भी अब सरकारी आदेश पर चलता है। उन्होंने कहा कि चरक नाम का प्रसिद्ध आयुर्वेद ग्रंथ है, उसमें लिखा गया है कि जब राजा और प्रजा अधर्म करती है तो प्रकृति अपना स्वरूप बदल लेती है। ऐसा ही अब भारत में देखने को मिल रहा है।

जगद्गुरु शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती ने सरकार पर कटाक्ष करते हुए कहा कि कोविड-19 संक्रमण उन्हीं राज्यों में फैल रहा है, जहां केंद्र सरकार चाहती है। पश्चिम बंगाल और असाम में चुनाव हैं, वहां संक्रमण का कोई खतरा नहीं है, लेकिन सनातन धर्म के सबसे बड़े पर्व महाकुंभ पर कोविड का खौफ दिखाकर श्रद्धालुओं को रोका जा रहा है।

जगद्गुरु ने कहा कि कुंभ मेला 12 साल बाद आता है, इस कारण सरकार को श्रद्धालुओं के लिए अच्छी व्यवस्था के सभी इंतजाम करने चाहिए। सरकार कोविड का खौफ दिखाकर अपनी जिम्मेदारी से पीछा नहीं छुड़ा सकती। ऐसा जरूरी नहीं है कि सभी श्रद्धालु अपनी जांच कराएं।

उन्होंने कहा कि महाकुंभ में कोविड की मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) थोपकर श्रद्धालुओं को रोकना और स्नान से वंचित करना अन्याय है। सरकार को श्रद्धालुओं की सेवा का पूरा प्रबंध करना चाहिए। बॉर्डर पर जांच की सुविधा बढ़ानी चाहिए। श्रद्धालुओं को भी कोविड के प्रति जागरूक होना होगा।

जगद्गुरु ने कहा कि भारत में लोकतंत्र है। लोकतंत्र में सरकार जनता की सेवक है, लेकिन मौजूदा केंद्र सरकार सेवक नहीं अभिभावक बन गई है। किसानों ने कृषि कानून बनाने की मांग नहीं की, लेकिन सरकार ने कानून थोप दिए। किसान वोटर है। सरकार बनाता है तो बदलने की भी ताकत रखता है।

Load More In उत्तराखंड
Comments are closed.