Home विदेश रूस की राजधानी मास्‍को में कोरोना के नए वेरिएंट का एक मामला आया सामने

रूस की राजधानी मास्‍को में कोरोना के नए वेरिएंट का एक मामला आया सामने

0 second read
0
5

मास्‍को: रूस की राजधानी मास्‍को में कोरोना के नए वेरिएंट का एक मामला प्रकाश में आया है। रूस में नए वेरिएंट की दस्‍तक ने सरकार की नींद गायब हो गई है। रूस के उपभोक्‍ता अधिकारों के प्रमुख एना पोपोवा ने रविवार को एक टलीविजन पर कहा कि देश में एक व्यक्ति कोरोना वायरस के नए वरिएंट से संक्रमित पाया गया है। बता दें कि कोरोना वायरस को नया वेरिएंट द‍िसंबर में ब्रिटेन में पाया गया था। उधर, शिन्‍हुआ समाचार एजेंसी ने बताया कि बीते दिन कोरोना के 22,851 मामले सामने आए हैं। इसके साथ देश में कोरोना संक्रमितों की संख्‍या 3,401,954 के पार पहुंच गई है।

एक महीने पूर्व ब्रिटेन में मिला था नया वेरिएंट

एक महीने पूर्व कोरोना महामारी के अंत का इंतजार करने वाली पूरी दुनिया के लिए ब्रिटेन से एक बुरी खबर आई थी। कोरोना वायरस के नए संस्‍करण ने ब्रिटेन को संकट में डाल दिया है। ब्रिटेन सरकार के चिकित्‍सा विशेषज्ञों ने कोरोना के नए वेरिएंट के प्रसार पर चिंता व्‍यक्‍त की थी और इसे खतरे की घंटी बताया। ब्रिटेन में नए वेरिएंट के चलते मौत में 20 फीसद का इजाफा हुआ है।

देश में कोरोना वायरस का नया वेरिएंट पहले की तुलना में और अधिक तेजी से फैल सकता है। कोरोना के नए रूप का पता लगने के बाद ब्रिटेन में कड़े प्रतिबंध लगा दिए गए हैं क्रिसमस पर आयोजित होने वाले कार्यक्रम को भी रद कर दिया गया। एक सप्‍ताह पूर्व ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने कैबिनेट की आपात बैठक के बाद देश में नए लॉकडाउन का ऐलान किया। मार्च में कोरोना वायरस के प्रसार के बाद ब्रिटिश सरकार ने देश में दोबारा लॉकडाउन के उपबंधों को लागू  किया है।

कई और देशों में पहुंचा नया स्ट्रेन

दुनिया के कई और देशों में कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन पहुंच गया है। चीन और स्वीडन में पहले मामलों की पहचान की गई है। अमेरिका के कैलिफोर्निया प्रांत में भी एक केस मिला है। यहां के सैन डिएगो में एक 30 वर्षीय व्यक्ति पीडि़त पाया गया है। इधर, चीनी रोग नियंत्रण केंद्र ने बताया कि ब्रिटेन से शंघाई लौटकर आई 23 साल की एक छात्रा नए स्ट्रेन से संक्रमित पाई गई। स्वीडन में भी चार मामलों की पहचान की गई है। ब्रिटेन में गत दिसंबर में वायरस का यह नया रूप मिला था। यहां से कई देशों में यह पहुंच चुका है। यह 70 फीसद अधिक संक्रामक बताया जा रहा है। अफ्रीका के कई देशों में यह खतरनाक स्‍वरूप अख्तियार कर चुका है। खासकर दक्षिण अफ्रीका में यह तेजी से फैल रहा है।

 

Load More In विदेश
Comments are closed.