Home देश एशियाई बाजारों पर पड़ा सुलेमानी की मौत का असर, भारत में बढ़ सकते हैं तेल के दाम

एशियाई बाजारों पर पड़ा सुलेमानी की मौत का असर, भारत में बढ़ सकते हैं तेल के दाम

4 second read
0
154

इराक की राजधानी बगदाद के अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर शुक्रवार को अमेरिकी हमले में ईरान की विशेष कुद्स सेना के प्रमुख जनरल कासिम सुलेमानी की मौत हो गई है। सुलेमानी की मौत का असर भारतीय शेयर बाजारों के साथ-साथ तमाम एशियाई बाजारों पर भी पड़ रहा है। इसके साथ ही इसका असर भारत में पेट्रोल डीजल और गैस की कीमतों पर भी पड़ रहा है।

भारत में तेल उत्पादों पर पड़ सकता है असर

एक तरफ जहां अंतरराष्ट्रीय मार्केट में क्रूड का दाम सितंबर से ही ऊंचे स्तर पर बना हुआ है तो वहीं सुलेमानी की मौत के बाद बाजार विशेषज्ञों का मानना है कि तेल के दाम में और तेजी आ सकती है। जिसकी वजह से भारत में पेट्रोल और डीजल समेत तमाम पेट्रोलियम उत्पादों के दाम में इजाफा हो सकता है। वहीं, नए साल में शुक्रवार को लगातार दूसरे दिन देश में पेट्रोल और डीजल के दाम में बढ़ोतरी हुई।

बढ़ रही तेल की कीमत

अमेरिका और ईरान के बीच इस हाई टेंशन की वजह से भारतीय अर्थव्यवस्था पर महंगाई और व्यापार घाटे के तौर पर नजर आ सकता है। कच्चे तेल की कीमतें बढ़ने से देश में महंगाई बढ़ सकती है। अंतरर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में तेजी नजर आ रही है। शुक्रवार को कच्चे तेल की कीमतों में 4 प्रतिशत से अधिक की तेजी दर्ज की गई है। ब्रेंट कच्चा तेल 4.4 प्रतिशत बढ़कर 69.16 डॉलर प्रति बैरल और वेस्ट टेक्सास इंटरमीडिएट कच्चा तेल 4.3 प्रतिशत बढ़कर 23.84 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया है। 17 दिसंबर 2019 के बाद से अब तक का यह अधिकत दाम है।

70 डॉलर प्रति बैरल पार कर सकता है क्रूड ऑयल

क्रूड ऑयल (कच्चा तेल) दो तरह का होता है, एक है ब्रेंट क्रूड जो लंदन में ट्रेड होता है, और दूसरा WTI जोकि अमेरिका में ट्रेड होता है। ऐसे में जानकारों का मानना है कि ब्रेंट क्रूड का दाम 70 डॉलर प्रति बैरल को पार कर सकता है।

भारत अपनी जरूरत का 80 फीसदी कच्चा तेल आयात करता है। ऐसे में तेल की कीमतें बढ़ने से मौजूदा घाटा भी बढ़ सकता है क्योंकि तेल का आयात दर बढ़ जाएगा। रुपए का एक्सचेंज रेट भी गिर सकता है।

अगर जंग हुई तो पूरे मिडिल ईस्ट पर होगा इसका इसर

मीडिया में आ रही खबरों की माने तो ईरान में अमेरिका के इस हमले के खिलाफ जवाबी कार्रवाई की तैयारी शुरू हो चुकी है। विशेषज्ञों का मानना है कि ईरान की ओर से अगर बदले की किसी भी तरह की कोई कार्रवाई की जाती है तो इसमें ईराक के साथ साथ पूरे मिडिल ईस्ट को नुकसान पहुंचेगा। क्योंकि ईरान के जनरल पर हमला कर अमेरिका एक तरह से युद्ध का ऐलान कर दिया है।

भारत के चाबहार प्रोजेक्ट पर पड़ सकता है असर

अमेरिका-ईरान के इस हाई टेंसन के बीच भारत-ईरान के चाबहार प्रोजेक्ट पर असर पड़ सकता है। दरअसल, भारत पाकिस्तान को किनारे कर अफगानिस्तान और मध्य एशियाई देशों के मार्केट में पहुंच बनाने के लिए इस प्रोजेक्ट की पहल की थी। अफगानिस्तान में भारतीय सप्लाई पहुंचाने के लिए चाबहार प्रोजेक्ट बेहद अहम है। अगर अमेरिका और ईरान की जंग हुई तो भारत के इस प्रोजेक्ट पर बहुत बड़ा असर पड़ सकता है।

Share Now
Load More In देश
Comments are closed.