1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. भारत में बड़े हमले को लेकर खुफिया एजेंसियों ने जारी किया अलर्ट, राइट विंग नेता और मंदिर को निशाना बना सकते है ISIS खुरासान

भारत में बड़े हमले को लेकर खुफिया एजेंसियों ने जारी किया अलर्ट, राइट विंग नेता और मंदिर को निशाना बना सकते है ISIS खुरासान

अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद एक बार फिर आतंकी संगठन ISIS खुरासान एक्टिव हो गया है। इसे लेकर सुरक्षा एजेंसियों ने भारत में बड़ा अलर्ट जारी किया है। खुफिया एजेंसी के मुताबिक अफगानिस्तान और पाकिस्तान में सक्रिय आतंकवादी संगठन ISIS खुरासान भारत में बड़ा धमाका कर सकता है।

By Amit ranjan 
Updated Date

नई दिल्ली : अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद एक बार फिर आतंकी संगठन ISIS खुरासान एक्टिव हो गया है। इसे लेकर सुरक्षा एजेंसियों ने भारत में बड़ा अलर्ट जारी किया है। खुफिया एजेंसी के मुताबिक अफगानिस्तान और पाकिस्तान में सक्रिय आतंकवादी संगठन ISIS खुरासान भारत में बड़ा धमाका कर सकता है। खुफिया एजेंसियों ने हमले का अलर्ट जारी किया है। जानकारी के मुताबिक, आतंकवादी संगठन ISISK के प्रशिक्षित आतंकी भारत में धमाके कर सकते हैं।

राइट विंग लीडर्स और मंदिरों को निशाना बना सकते हैं आतंकी

खुफिया रिपोर्ट के मुताबिक, IS के निशाने पर राइट विंग लीडर्स, मंदिर, पश्चिमी देशों के ठिकाने और भीड़भाड़ वाली जगह शामिल हैं। साथ ही वो विदेशियों को भी निशाना बना सकते हैं। कर्नाटक और कश्मीर में हाल ही में पकड़े गए इस ग्रुप से जुड़े आतंकियों ने पूछताछ में इस बात की पुष्टि की है कि वो अफगानिस्तान पाकिस्तान में IS ऑपरेटर के संपर्क में थे। पूछताछ में ये भी खुलासा हुआ है कि IS नेटवर्क के धमाकों की साजिश में ये भी शामिल हो सकते हैं।

जानकारी ये भी मिल रही है कि भारत में मौजूद आतंकियों को आईईडी बनाने और छोटे हथियार खरीदने के लिए फंड पहुंचाने की भरोसा भी आतंक के आकाओं ने दिया है।

काबुल में खुरासान ने किया था हमला

आपको बता दें कि अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में बम ब्लास्ट करने की जिम्मेदारी ISIS खुरासान ने ही ली थी। काबुल ब्लास्ट में एक दर्जन अमेरिकी सैनिकों समेत 100 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी। बता दें कि ISIS के खुरासान मॉडल की जड़े पाकिस्तान से ही जुड़ी हुई हैं।

ISIS-K के मुखिया का नाम असलम फारूकी है, जो पाकिस्तान के खैबरपख्तूनख्वा प्रांत का रहने वाला है और पहले लश्कर-ए-तैयबा से जुड़ा हुआ था। फारूकी अब तक अफगानिस्तान की बगराम जेल में बंद था, जिसे तालिबानियों ने रिहा कर दिया और रिहा होते ही उसने काबुल एयरपोर्ट पर खूनी साजिश को अंजाम दे दिया।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...