Home ताजा खबर भारत-चीन सीमा विवादः रक्षा मंत्री राजनाथ बोले-किसी कीमत पर झुकने नहीं देंगे देश का मस्तक

भारत-चीन सीमा विवादः रक्षा मंत्री राजनाथ बोले-किसी कीमत पर झुकने नहीं देंगे देश का मस्तक

0 second read
0
2

संसद के मानसून सत्र के चैथे दिन रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ जारी सीमा विवाद पर राज्यसभा में बयान दिया।राजनाथ सिंह ने राज्यसभा में दिए बयान में कहा कि हम पूर्वी लद्दाख में चुनौती का सामना कर रहे हैं और हम मुद्दे का शांतिपूर्ण ढंग से हल करना चाहते है। हमारे सशस्त्र बल देश की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता की रक्षा करने के लिए डटकर खड़े हैं।

राजनाथ सिंह ने कहा कि 15 जून को कर्नल संतोष बाबू ने अपने 19 बहादुर सैनिकों के साथ भारत की अखंडता को बचाने के उद्देश्य से गलवां घाटी में सर्वोच्च बलिदान दिया। हमारे पीएम खुद सेना का मनोबल बढ़ाने के लिए लद्दाख गए। राजनाथ सिंह ने कहा कि सीमा पर दोनों देशों के बीच शांति बहाल करने के लिए कई समझौते हुए, लेकिन चीन एलएसी को नहीं मानता।

रक्षा मंत्री आगे कहा कि मैं देश के 130 करोड़ लोगों को आश्वस्त करना चाहता हूं कि हम देश का मस्तक किसी भी कीमत पर झुकने नहीं देंगे और न ही हम किसी का मस्तक झुकाना चाहते हैं। उन्होंने कहा गलवान में उकसावे वाली कार्रवाई चीन की ओर से की गई थी। हमारी सेना ने गलवां में चीन को भारी नुकसान पहुंचाया।

राजनाथ सिंह ने कहा कि चीन की कथनी और करनी में फर्क है। मैं सदन से यह अनुरोध करता हूं कि हमारे वीर जवानों की वीरता एवं बहादुरी की प्रशंसा करनी चाहिए। हमारे बहादुर जवान अत्यंत मुश्किल परिस्थतियों में अपने अथक प्रयास से समस्त देशवासियों को सुरक्षित रख रहे हैं।

उन्होंने कहा कि मैं देशवासियों को यह विश्वास दिलाना चाहता हूं कि हमारे सभी सशस्त्र बल के जवानों का जोश एवं हौसला बुलंद है, हमारे जवान किसी भी संकट का सामना करने के लिए तैयार हैं। इस सदन से दिया गया, एकता व पूर्ण विश्वास का संदेश, पूरे देश और पूरे विश्व में गूंजेगा और हमारे जवान, जो कि चीनी सेनाओं से आंख से आंख मिलाकर अडिग खड़े हैं, उनमें एक नए मनोबल, ऊर्जा व उत्साह का संचार होगा।

Load More In ताजा खबर
Comments are closed.