Home उत्तर प्रदेश फतेहपुर: हत्या कर शव छिपाने के मामले में तीन लोगों को आजीवन कारावास

फतेहपुर: हत्या कर शव छिपाने के मामले में तीन लोगों को आजीवन कारावास

2 second read
0
9

फतेहपुर: रुपयों की लालच में 9 साल के बच्चे का अपहरण कर उसकी निर्मम हत्या कर देने के तीन आरोपियों को जनपद न्यायाधीश ओपी त्रिपाठी की अदालत ने आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। मामला बिंदकी कोतवाली क्षेत्र के जलालपुर गांव का है।

यहां के तीन युवकों ने पांच लाख रुपयों की लालच में अपने ही गांव के नौ साल के बच्चे का अपहरण करने के बाद उसकी हत्या कर शव गांव के ही एक घर में दफना दिया था। इस मामले की लड़ाई मृतक बच्चे के पिता ने कोर्ट में तीन साल तक लड़ी।

जिसमें सोमवार को जिला जज की अदालत ने फैसला सुना दिया। बिंदकी कोतवाली के जलालपुर गांव के नवाब शेख मुंबई में कपड़े का व्यापार करते थे और उनका परिवार जलालपुर में रहता था। 20 दिसंबर 2017 की दोपहर तीन बजे नवाब शेख का नौ साल का बेटा रेहान अपने घर के बाहर खेल रहा था।

तभी गांव के ही इसरार, सोहनलाल और अंसार तीनों उसे बहलाकर अपने साथ ले गए थे। रेहान का अपहरण के बाद तीनों ने उसके घरवालों से फोन पर पांच लाख की फिरौती मांगी। फोन पर रेहान के परिजन अपहरणकर्ताओं की आवाज पहचान गए।

इसका शक अपहरणकर्ताओं को हुआ तो उन्होंने 20 दिसंबर की ही शाम को रेहान की गला दबाकर हत्या कर दी थी। हत्या के बाद इसरार ने जलालपुर में ही अपने मामा के लड़के के निर्माणाधीन घर में रेहान का शव दफना दिया था।

रेहान की खोजबीन करते हुए पुलिस जब घटनास्थल पर पहुंची तो वहां रेहान की चप्पल और फावड़ा बरामद हुआ। जिससे पूरी वारदात का खुलासा हुआ। पुलिस ने तीनों को गिरफ्तार करके जेल भेज दिया था। तबसे प्रकरण न्यायालय में विचाराधीन चल रहा था।

इस प्रकरण में जिला शासकीय अधिवक्ता सहदेव गुप्त, सहायक शासकीय अधिवक्ता अनिल दुबे और अधिवक्ता सैय्यद नाजिश रजा मुल्जिमों को सजा दिलाने के लिए पैरवी कर रहे थे। न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत हुए साक्ष्यों और गवाहों को मद्देनजर रखते हुए तीनों अभियुक्तों इसरार, सोहनलाल और अंसार को आजीवन कारावास की सजा सुना दी। जिला जज ने तीनों अभियुक्तों पर 79 हजार रुपयों का अर्थदंड भी लगाया है।

 

 

 

Load More In उत्तर प्रदेश
Comments are closed.