Home उत्तर प्रदेश भगवान को ‘मृतक’ घोषित कर हड़प लिया मंदिर की जमीन, पूरा खेल ऐसे आया सामने

भगवान को ‘मृतक’ घोषित कर हड़प लिया मंदिर की जमीन, पूरा खेल ऐसे आया सामने

0 second read
0
88

नई दिल्ली : अभी तक आपने जमीन के ऐसे कई मामले सुने होंगे, जिसमें जबरन किसी शख्स द्वारा जमीन को हड़प लिया जाता है या धोखाधड़ी कर उस जमीन पर कब्जा जमाया जाता है। लेकिन उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से एक ऐसा चौंकाने वाला सामने आया है, जिसमें भगवान को ही मृतक बताकर मंदिर की जमीन हड़प ली गई। अब जब इस मामले की जांच हुई तो जो बातें सामने आई वो काफी हैरान भरा था।

जांच के मुताबिक, मंदिर की जमीन जो कि भगवान कृष्ण-राम के नाम थी, उन दोनों को मृत बताकर पहले फर्जी पिता के नाम जमीन करवा दी। और उसके बाद भी जमीन किसी के नाम पर करवा ली। इसके बाद इस फर्जीवाड़े के बारे में मंदिर के ट्रस्टी की शिकायत नायब तहसीलदार से होते हुए कलेक्टर तक पहुंची। फिर भी जब भी जांच नहीं हो सकी, तो यूपी के डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा ने खुद इस मामले की जांच शुरू करवाई।

रिकॉर्ड्स के अनुसार, ये मंदिर 100 साल पुराना है। साल 1987 में चकबंदी प्रक्रिया के दौरान भगवान कृष्णराम को मृतक दिखाकर उनके फर्जी पिता गयाप्रसाद को वारिस बताते हुए मंदिर की जमीन को उनके नाम पर इसे दर्ज कर दिया गया। इसके बाद साल 1991 में गयाप्रसाद की भी मौत दिखा दी गई और उसके भाई रामनाथ और हरिद्वार का नाम फर्जी तौर पर दर्ज किया गया। इसी फर्जीवाड़े के दम पर जमीन को हड़प लिया गया।

आपको बता दें कि ये पूरा मामला यूपी में मोहनलालगंज के कुशमौरा हलुवापुर में एक मंदिर का है, जहां ट्रस्ट की जमीन को लेकर पूरा विवाद हुआ है। ट्रस्ट की ओर से दाखिल अर्जी में कहा गया है कि मोहनलालगंज में खसरा संख्या 138, 159 और 2161 कुल रकबा 0.730 हेक्टेयर ‘कृष्णराम’ भगवान के नाम पर खतौनी में दर्ज है।

Load More In उत्तर प्रदेश
Comments are closed.