Home उत्तराखंड कोरोना संकट के बीच चार धाम यात्रा भी रद्द, तय समय पर खुलेंगे कपाट

कोरोना संकट के बीच चार धाम यात्रा भी रद्द, तय समय पर खुलेंगे कपाट

2 second read
0
12

रिपोर्ट: सत्यम दुबे

देहरादून: कोरोना के दूसरे लहर के कहर में भारत लगातार घिरता चला जा रहा है, ऑक्सीजन और दवाइयों की कमीं से कोरोना संक्रमित मरीज लगातार दम तोड़ रहे हैं। महामारी की गंभीरता को देखते हुए उत्तराखंड सरकार ने आगामीं चारधाम यात्रा को रद्द कर दिया है। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने इस बात की जानकारी मीडिया को दी है। गुरुवार को इस संबंध में एक बैठक आयोजित की गई थी। जिसमें में ये निर्णय लिया गया है।

आपको बता दें कि मुख्यमंत्री ने कहा कि चारों धाम के कपाट अपने तय समय पर खुलेंगे। लेकिन केवल पुजारी और पुरोहित ही धामों में पूजा अर्चना करेंगे। यात्रियों को वहां जाने की अनुमति नहीं होगी। वहीं देवस्थानम बोर्ड के मीडिया प्रभारी डॉ.हरीश गौड़ ने कहा कि मई में शुरू होने वाली चारधाम यात्रा को लेकर सरकार ने फैसला लिया है, कि गुरुवार को उत्तराखंड पर्यटन विकास परिषद के सभागार में पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज की अध्यक्षता में बैठक की गई।

बैठकर में देवस्थानम बोर्ड के CEO रविनाथ रमन, अपर सचिव पर्यटन जुगल किशोर पंत, बोर्ड के अपर मुख्य कार्यकारी अधिकारी बीडी सिंह, अपर निदेशक विवेक चौहान के अलावा चमोली, रुद्रप्रयाग और उत्तरकाशी जिलों के जिलाधिकारी और पुलिस अधिक्षक भी मौजूद थे।

भगवान केदारनाथ धाम के कपाट 17 मई को मेष लग्न में सुबह पांच बजे खोले जाएंगे। भगवान बद्री विशाल के कपाट 18 मई प्रातः 4:15 पर खोल दिए जाएंगे। गाडू घड़ा यात्रा 29 अप्रैल को सुनिश्चित की गई है। श्री गंगोत्री धाम व यमनोत्री धाम के कपाट 14 मई को खोले जाएंगे।

आपको बता दें कि मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने चारधाम यात्रा के लिए दो करोड़ रुपये की प्रशासनिक एवं वित्तीय स्वीकृति प्रदान की थी। चारधाम यात्रा व्यवस्था के लिए आयुक्त, गढ़वाल मंडल को दो करोड़ रुपये की प्रशासकीय एवं वित्तीय स्वीकृति प्रदान की थी।

इस समय में देवभूमि में प्रकृति को और नमिखारने का काम चलता था, बीते सालों में चारधाम यात्रा के दौरान होटल ढाबों को सजाने संवारने का कार्य चलता था, लेकिन इस बार यात्रा के लिए हुई एडवांस बुकिंग रद्द होने से यात्रा कारोबारी मायूस हैं। साथ ही यात्रा पर टिकी आजीविका चौपट होने से इससे जुड़े लोग भविष्य को लेकर आशंकित हैं।

 

 

Load More In उत्तराखंड
Comments are closed.