Home Madhya Pradesh मौत के मुंह से मालिक को बचा लाईं भैंसे, जबड़ों में फंसाकर ले जा रही थी बाघिन

मौत के मुंह से मालिक को बचा लाईं भैंसे, जबड़ों में फंसाकर ले जा रही थी बाघिन

0 second read
2
1,878

रिपोर्ट: सत्यम दुबे

भोपाल: मध्य प्रदेश के उमरिया से एक ऐसी घटना सामने आई है, जिसे जानकर आप भी दंग रह जायेंगे। यहां से एक हैरतअंगेज मामला सामने आया, एक मालिक को भैंसे काल के गाल से निकाल लाई। भैंसे अपने मालिक को बाघिन के जबड़ों से निकाल लाईं।

आपको बता दें कि यह हैरतअंगेज मामला बांधवगढ़ टाइगर रिजर्वं पार्क का है। जहां कोठिया गांव से लगे पनपथा कोर के जंगल में एक बाघिन भी रहती है। सोमवार दोपहर एक युवक अपनी 6-7 भैंसो को पानी पिलाकर लौट रहा था। इसी दौरान  बाघिन ने उस पर हमला कर दिया। युवक के चेहरे, गर्दन पर बाघिन ने पंजे से हमला बोल उसे जख्मी कर दिया।

युवक के शरीर से खून बहने लगा, इस दौरान बाघिन उसे मुंह में दबाकर ले जाने लगी, तभी सामने भैंसे खड़ी हो गईं। सभी भैंसो ने बाघिन को घेर लिया, जिसके बाद बाघिन दुम दबाकर वहां से भाग गई। घटना की जानकारी मिलते ही मौके पर पहुंचे वन विभाग के अधिकारियों ने युवक को मानपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती किया गया। जहां उसके मुंह में दो टांके लगाए गए।

युवक के कंधे पर बाघिन के नाखून के गहरे जख्म के निशान बन गए हैं। जिनको भरने में वक्त लगेगा। हालांकि डॉक्टरों ने जांच कर युवक की स्थिति को खतरे से बाहर बताया है। युवक की पहचान लल्लू यादव तौर पर हुई है।

लल्लू यादव ने आपबीती बताते हुए कहा कि वह रोज की तरह अपनी मवेशियों को चराने के लिए गया था। दोपहर को वह उन्हें पानी पिलाने के बाद वापस अपने घर ला रहा था। इसी दौरान एक बाघिन पहले से झाड़ियों में घात लगाकर बैठी हुई थी।

जैसी मैं वहां से निकला तो उसने पीछे से मुझ पर हमला बोल दिया। मैं जमीन पर गिर गया। इसके बाद बाघिन मेरे ऊपर आ गई और मेरे मुंह पर पंजा मारने लगी। मुझे लगा कि अब मैं नहीं बचूंगा। क्योंकि वह अपने जबड़ो में भरकर ले जाने लगी। तभी सामने मेरी भैंसे चिल्लाते हुए आईं और उन्होंने बाघिन को घेर लिया। जिसके बाद वह मुझे छोड़कर भाग गई। अगर मेरी भैंसे नहीं होती तो आज में जिंदा नहीं बचता।

Load More In Madhya Pradesh
Comments are closed.